क्या मृत्यु के बाद एक घण्टे तक आत्मा शरीर में रहती है?

मौत के बाद क्या होता है. मृत्यु के बाद का सत्य क्या मृत्यु होते ही आत्मा शरीर को त्याग कर बाहर निकल जाती है. क्या होता है मृत्यु के ठीक …

Read More

मृत्यु और नींद में अंतर

‘नींद’ में ‘आत्मा’ पॉवर सर्किट में बनी रहती है। वह केवल अपने एक बिंदु को सुप्त करती है , जो अनुभूत होता है। जबकि मृत्यु में दो स्थिति होती है …

Read More

ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति – 01

जिस प्रकार वायु मंडल के एक बिंदु पर गर्मी के कारण वायु हल्की होके ऊपर उठती है, ठीक उसी प्रकार परमात्मा तत्व में एक बिंदु पर विकोचन होता है और …

Read More

ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति के शास्वत सूत्र

ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति ‘परमात्मा रुपी’ अनंत विस्तार में होती है। इसकी उत्पत्ति और संरचना चक्रवात-जैसी होती है। अंतर केवल इतना होता है की वायु एक भौतिक पदार्थ है, इसलिए चक्रवात …

Read More

क्या है यह मायाजाल?

प्रकृति का मायाजाल महर्षि कपिल से लेकर शंकराचार्य ने कहा है कि यह महामायावानी प्रकृति ‘परमात्मा’ की ‘योगमाया’ से उत्पन्न एक माया-मारीचिका है। यह मनुष्य को जिस रूप में दिखाई …

Read More

भोग के नशे में ही ज़िन्दगी बीतती है

बच्चा जन्म लेते ही जिस लुभावने जगत को देखता है, वह क्या है, इसको सोचने की उसे फुर्सत ही नहीं होती। वह उसी समय से कामनाओं में डूब जाता है। …

Read More

जीवन और मृत्यु की विचित्र पहेली

जीव इस संसार में जन्म लेता है, जन्म लेने के बाद एक आकर्षक और मनमोहक जगत को देखता है और उसे भोगने में लग जाता है। जैसे-जैसे वह बड़ा होता …

Read More

क्या पुनर्जन्म होता है?

क्या पुनर्जन्म होता है? इस जन्म के कर्मों से उसका क्या सम्बन्ध है? क्या कर्म ही भाग्य के रूप में फलित होते है? या भाग्य कर्म को निर्धारित करता है? …

Read More