सूर्य के अशुभ होने के उपचार एवं टोटके

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

सूर्य के अशुभ होने के उपचार एवं टोटके

प्रथम प्रभाव: – (1) सदाचारी बनें।

(2) घर के अंतिम सिरे पर बायीं औ अधेरा कमरा बनवाएं।

द्वितीय भाव :-  (1) पैतृक घर में एक हैण्ड पंप लगायें।

(2) मुफ्त में किसी से कुछ मत लें। चावल ,चाँदी , दूध(Rice, silver, milk) आदि चन्द्रमा से सम्बन्धित वस्तुएं दान में न लें।

(3) सदाचारी(Good-natured) बनें रहें।

(4) नारियल तेल(Coconut Oil) और अखरोट माँ पर अर्पित करें।

तृतीय भाव :-   (1) सदाचारी बनें रहें।

(2) माँ/दादी का आशीर्वाद प्राप्त करें।

चतुर्थ भाव:-   (1) अंधों को भोजन खिलायें।

(2) मांस-मदिरा(Meat and wine) का सेवन न करें।

(3) ताम्बे(Copper) का सिक्का खाकी धागे पिरोकर गलें में बांधे।

पंचम भाव:- (1) झूठ न बोलें। किसी का बुरा न चाहें।

(2) अपने वचन का पालन करें ।

(3) पुराने रीती-रिवाजों का अनुसरण करें।

(4) लाल मुंह के बंदरों को गुड़ खिलाएं।

 

षष्ठ भाव :-   (1) बंदरों को गेंहू और गुड़ का भोजन करायें।

(2) दीमक को सात अनाज दें। उन्हें खुली जगह पर नीचे रखें।

(3) नदी – जल या चाँदी सदा अपने पास रखें।

(4) माँ/दादी के पाँव धोएं।

सप्तम भाव :- (1) रात में भोजन बनाने के बाद चूल्हा दूध से बुझायें। वह चूल्हा दूसरे दिन सुबह से पहले उपयोग न करें।

(2) ताम्बे के चौकोर सिक्के जमीन में दबा दें।

(3) काली या बिना सिंग की गाय को भोजन दें।

(4) काम आरम्भ करने से पहले मिठाई खाकर पानी पी लें।

अष्टम भाव :- (1) घर का मुख्य द्वार दक्षिणाभिमुख न हों।

(2) सफ़ेद गाय रखें।

(3) सदाचारी बने रहें।

(4) ससुराल में न रहें।

(5) बड़े भाई और गौ माता(Mother) की सेवा करें

नवम भाव :- (1) पीतल के बर्तन बरतें।

(2) चावल , दूध और चाँदी का दान ग्रहण न करें।

(3) अत्यंत क्रुद्ध न हों , बहुत सहनशील भी न हों। सामन्य बनें ।

दशम  भाव:- (1) सफ़ेद टोपी(Cap) या पगड़ी पहनें।

(2) पैतृक घर में हैण्ड पम्प लगायें

(3) मटमैले रंग की भैंस की सेवा करें।

 

एकादश भाव:-  (1) मांस-मदिरा की सेवन न करें। मछली न पकडें , न खाए।

(2) कभी झूठ न बोलें।

द्वादश भाव:- (1) यांत्रिक व्यवसाय न अपनाएं।

(2) घर में अग्नि रखें।

 

सामान्य उपचार: सब भागों के लिए

 

  1. रविवार को उपवास रखें।
  2. हरिवंश पुराण पढ़े या सुनें।
  3. गेंहू , गुड़ और ताम्बा दान में दें।
  4. सदाचारी बने रहें।
  5. लाल (माणिक्य) या ताम्बा पहनें।
  6. बहते पानी में ताम्बे के सिक्के डालें।
  7. घर का मुख्य द्वार पूर्वाभिमुख रखें।
  8. काला बाजार और काला बाजारियों से दूर रहें।
  9. सरकारी पदाधिकारियों से बनाकर रखें।

कुंडली की सेवा के लिए यहाँ क्लिक करें.

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

One Comment on “सूर्य के अशुभ होने के उपचार एवं टोटके”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *