समुद्र फल

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

समुद्र फल (Barringtonia acutangula)

यह कई रोगों की दवा है . समुद्र फल के फायदे  – बच्चों (Child), बूढों (Old Person), दम्मा (Asthma) का यह  आयुर्वेदिक रामबाण इलाज है

रोग – बच्चों (Child), बूढों (Old Person) के कफ की दवा, गर्भाशय के रोग, बंध्यापन , दम्मा (Asthma), लिकोरिया (श्वेत प्रदर)

दवा- यह विश्व प्रसिद्ध दवा है। विशेषकर बच्चों के लिए। डायमाक नामक एक प्रसिद्ध रिसर्चर का कहना है कि 10 मी.ग्राम  समुद्र फल पानी में घिसकर अदरख(Ginger) के रस के साथ बच्चों को पिलाने पर 3 महीने से अधिक उम्र के बच्चों का सारा कफ निकल जाता है। यही मत एक अन्य प्राचीन रिसर्चर डा. आर.एन. खोरी का है। यह दवा इस काम में भारत में प्राचीन काल से ही प्रयुक्त की जा रही है।

बंध्याओं का अमृत (Immortal for Women)– 5 ग्राम प्रातःकाल दही (Curd)के साथ 45 दिन खाने से गर्भाशय शुद्ध होता है, गर्भ रहता है।

दम्मा (Asthma) – अनुपात में  (गिनती में नहीं) 1 समुद्र फल, 2 पीपर, बर्तन में रखकर जला कर राख कर लें। पान के साथ 1 ग्राम राख प्रयुक्त करें . दिन में दम्मा मिट जाएगा (यह कफ निकालता है. एलर्जी दूर नहीं करता)

प्रदर रोग (लिकोरिया) – 5 ग्राम चूर्ण + 10 ग्राम ताजे भैंस के गोबर के रस के साथ प्रातःकाल लेने से 21 दिन में सभी प्रकार का प्रदर दूर हो जाता है । खून भी ।

बालों कि सफेदी (Hair Problem)- समुद्र फल को काली अरबी के रस में पीसकर मधु के साथ बालों में लगाने से 108 दिन में सफ़ेद बाल काले हो जाते है  , काले ही निकलते है ; यदि उम्र 50 से कम हो। साथ में 3 ग्राम सनाय का चूर्ण , जल भंगरे के काढ़े के साथ लेने से जल्दी लाभ होता है।

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *