ज्योतिष से समस्या समाधान

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

हम पहले बता आये है कि ‘धर्मालय’ का सम्पूर्ण धार्मिक , तांत्रिक या प्राचीन विद्याओं से सम्बन्धित आधार अग्नि प्राचीन शास्त्रीय रूप में है; जो वैज्ञानिक आधार पर खड़ा था। इस रूप में समस्याएं दूर करने के लिए कारण जानना आवश्यक होता है। निदान कारण का किया जाता है। यही वैज्ञानिक सूत्र है ।जो लोग बाबागिरी का ढोंग करके भभूत खिलाकर समस्या निदान करते है, उस प्रकार का भ्रम हमारे बारे में न पाले।

धर्मालय से किसी भी सलाह के लिए निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें

कार्य की समस्याएं

जब आप अपने जीवन की किसी समस्या , जैसे कार्यबाधा , नौकरी, दूकान का न चलना आदि से सम्बन्धित सलाह ले रहे है, तो डिटेल्स साथ दें

  • नाम, उम्र, स्थान , लिंग, तस्वीर (यह सामुद्रिक लक्षण जानने के काम में आती है)
  • आप जो भी कार्य करते है, उसका डिटेल्स
  • नौकरी के लिए प्रयत्नशील है, तो किस प्रकार की नौकरी ? क्या शिक्षा प्राप्त की है।
  • बाधा किस प्रकार की है? काम बनते-बनते बिगड़ता है या आगे बढ़ता ही नहीं?

जीवन की समस्याएं

  • नाम , उम्र, लिंग, तस्वीर और स्थान
  • समस्या का पूरा विवरण ,अन्य ज्योतिषी या जानकार ने क्या कहा , क्या उपाय बताया , लाभ क्या हुआ?
  • वैवाहिक समस्या यानी विवाह का न होना कुण्डली योग पर निर्भर करता है। उसके अनुसार होते है।

दाम्पत्य समस्याएं

  • पति-पत्नी के नाम , उम्र , लिंग , तस्वीरे, सन्तान
  • समस्या क्या है? पूरा डिटेल। पति-पत्नी में छोटी-मोटी समस्या होती ही रहती है। कृपया उस पर सलाह न मांगे।
  • अक्सर इस क्षेत्र में लोग कलह-उपेक्षा – पारिवारिक हिंसा के शिकार होते है। इन सबके पीछे ‘क्यों’ होता है। हमेशा ऐसे मामलों में कोई तीसरा होता है; जिसके कारण विद्वेष-तकरार आदि उत्पन्न होते है। वह घर , बाहर का कोई स्त्री/पुरुष होता है। ऐसा आकर्षण (स्त्री/पुरुष का) भी इसका कारण होता है।

सटीक निदान करना है , तो यह सब डिटेल भेजे। डॉक्टर से समस्याएं छुपाकर निदान नहीं होता। धर्मालय के व्हाट्सएप्प , ईमेल, पर पूरा डिटेल्स भेजे। यदि फोन करते है, तो 10 से 1 बजे दिन में करें। यह 24 घंटे की सेवा  नहीं है।

प्रेम सम्बन्ध

इसमें  नाम , जन्म डिटेल्स या उम्र , तसवीरें , तो भेजे ही ; यह स्पष्ट करें कि दूसरा पक्ष आपको जानता है या नहीं? यदि जानता है , तो समस्या क्या है? यदि प्रेम सम्बन्ध बनाकर बिगड़ गया है, तो क्यों? माता-पिता नहीं मानते तो क्यों? जाति-समस्या? स्टेटस की समस्या? या कोई अन्य कारण।

पुत्र-पुत्री का अनियंत्रित होना

आजकल यह समस्या आम है। आधुनिक बुद्धि जीवियों के आधुनिक आदर्शों ने युवा पीढ़ी को अनियंत्रित कर दिया है। सिनेमेटिक लव, फ्रेंड के साथ , अमर्यादित मौज मस्ती, पढाई में ध्यान न देना , नशा- इसके पत्र आते है, पर डिटेल्स नहीं होता। आपको समस्त उपर्युक्त डिटेल्स देना होगा। पूरी समस्या बतानी होगी। आजकल के ज्योतिषियों और बाबाओं के हवा-हवाई टोटकों से यह समस्या दूर नहीं होगा।

रोगों की समस्या

इसमें भी समस्त डिटेल्स भेजे। हमें बार-बार पूछना पड़ता है । हमारे पास समय नहीं होता। रोग का निदान आध्यात्मिक या तांत्रिक प्रक्रियाओं एवं औषधि सेवन दोनों प्रकार से करना चाहिए। हम आपको इतनी गांरटी दे सकते है कि सर्वत्र लाइलाज रोगों का निदान हमारे यहाँ सम्भव है। तांत्रिक नुस्खों की औषधियां उन रोगों को भी दूर करती है, जिनका कारण ज्ञात नहीं है। हम केवल कैंसर का इलाज नहीं बता सकते; क्योंकि इस रोग के विवरण प्राचीनकाल में उपलब्ध नहीं है। मधुमेह दूर होता है, यह तो हम बता सकते है; पर सम्पूर्ण आरोग्य से सम्बन्धित परिणाम हमें प्राप्त ही नहीं  होते। क्योंकि मधुमेह की हम कोई दवा नहीं देते, उसके नुस्खें बता देते है।

हमारे यहाँ विशेष रूप से दम्मा , गठिया, अस्थि रोग, नर्वस सिस्टम की खराबी , सेक्स रोग, सेक्स की समस्याएं , लिकोरिया, मासिक धर्म की गड़बड़ी , इस समय की पीड़ा , कमर दर्द , शरीर का दर्द , वायु प्रकोप, वायु प्रकोप से उत्पन्न हुई बीमारियाँ , पेट के रोग, लीवर के विकार, दुर्बलता , मोटापा, चर्म रोग, आदि की तंत्र चिकित्सा की जाती है।

मानसिक रोग जैसे – उन्माद , भम्र, मिर्गी, हिस्टीरिया या अन्य रूप , क्योंकि ये कई प्रकार के होते है और इनमें भूत-प्रेत –जिन्नात आदि के भी प्रकोप होते है। पूरा लक्षण बताने पर ही हम बता सकते है या नहीं। ऐसे  रोगी को हमारे पास आना पड़ सकता है।

किया कराया , जादू टोना , काला जादू की समस्या

इसमें बहुत से मामलों में पूरा परिवार पीड़ित होता है, बहुत से मामलों में पति या पत्नी , बच्चे या युवा महिला भी इसकी शिकार होती है। वस्तुतः 90% मामले खिलाने पिलाने के होते है और इन सबके पीछे कोई न कोई महिला ही होती है। बहुत सी ईर्ष्यालु और दुष्ट महिलाये तो इनमें सक्रिय होती ही है, बहुत सी इनकी सलाह पर ही अपने परिवार में इनका प्रयोग करने लगती है।

इन  सबके के निदान के लिए डिटेल्स भेजिए। बार-बार पूछने में बहुत समय नष्ट होता है।

 

सम्पर्क करें –

Email – info@dharmalay.com

 

 

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

3 Comments on “ज्योतिष से समस्या समाधान”

  1. १गुरुजी हम अपने आप को कैसे जाने,हम कौन है,कहा से आये है,हमारा लक्ष्य क्या है,हम क्यों है आदि।
    २हम अपने लक्ष्य को कैसे प्राप्त करे।मन क्या है, भटकता क्यों हैं।लक्ष्य में बाधक क्यों बनता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *