शुक्राचार्य संजीवनी गुटिका

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

मुलेठी के टुकड़ों को आक के दूध , धतूरे के फूलो के पानी , ( 1 भाग फूल की लुगदी – 4 भाग पानी ), अपामार्ग की जड़ों के पानी में बारी-बारी भिंगो कर छाया (हवा) में सुखाएं।

इसको कूटकर पाउडर बना लें। इसमें सौफ (आधा) कूटकर मिलाएं। फिर 10% दालचीनी + जायफल+लौंग मिलाये। फिर इसमें 20% धोये भाँग का चूर्ण + 5% लोहे, ताम्बे, अबरख और गंधक का शोधित भस्म मिलाये। इन सबको मिलाकर चीनी की चासनी बनाकर छोटी सुपारी इतनी बड़ी-बड़ी गोलियां बना लें। चीनी 1/3 दें। इन गोलियों को धुप में सुखाये।

प्रतिदिन शाम में अपने बलाबल को देखकर ¼ से शुरू करके एक गोली खाकर ऊपर से गर्म पानी पिने या गर्म दूध पिने से बूढ़ा भी जवान बना जाता है।
यह शरीर के सभी विकार नष्ट कर देता है। सफ़ेद बाल काले हो जाते है. हिलते दांत जैम जाते है, जीवन के सभी उल्लास चरमशक्ति पर होते है।

<strong >विशेष </strong >

धर्मालय की वेबसाइट पर दी गयी सभी सामग्रियाँ प्राचीन आचार्यों के नुस्खों पर या प्राचीन कालीन गुप्त विवरणों पर आधारित है। इन्हें सम्पूर्ण रूप से विधि प्रक्रिया के साथ दिया गया है। किन्तु इसके निर्माण एवं प्रयोग में सावधानियों की ज़रूरत है। जो जिस क्षेत्र से सम्बंधित हैं उसके विशेषज्ञों के निर्देशन में ही कोई प्रयोग करें।

धर्मालय के पास कोई तैयार सामग्री नहीं होती हैं। किसी की मांग होने पर सम्बंधित क्षेत्र के विशेषज्ञों से उसे तैयार करवाया जाता है। यह एक सेवा है। व्यवसाय नहीं। हमारा उद्देश्य लुप्त प्राचीन विद्याओं के द्वारा पीड़ित जन-मानस को लाभ पहुँचाना हैं|

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

13 Comments on “शुक्राचार्य संजीवनी गुटिका”

  1. Acharya ji mene pehle niveden kiya tha ki mujhe shunya siddhi yantra chaiye Jo vindhywasini keelak se siddh ho aur siddh beej se samputit ho

  2. कृपया धैर्य रखें. जल्द ही आपको आपके प्रश्न का उत्तर प्राप्त होगा. अधिक कमेंट्स के कारण उत्तर देने में समय लग जाता है. तब तक आप धर्मालय के अन्य पोस्ट्स देखें.
    धन्यवाद

  3. धर्मालय संचालक जी , मे अमेरिका मे रहता हु ..भारतीय गुजराती हु …मुझे आकस्मिक धन प्राप्ति मंत्र – चैतन्य युक्त यन्त्र और माला चाहिए ….मिलेगा ???….अगर हां तो …कितनी धनराशि होगी …..जवाब और
    मार्गदर्सन देनेकी कृपा करे ….जय गुरुदेव ………….. आप के दर्सन का अभिलासी ………..
    नरहरि पटेल ( अमेरिका से ) ता . ५ अगस्त २०१६ ……….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *