लिकोरिया, ब्लड लिकोरिया, एनेमिया, मंथली ब्लड, बोन पेन, तंत्र मन्त्र आयुर्वेदिक चिकित्सा

Image Source: pexels.com

तंत्र मन्त्र आयुर्वेदिक चिकित्सा

१.आंवला ५ बीज सहित पीस कर सुबह शाम पानी में घपल कर गुर मिला सरबत बना कर पीने से तीन दिन में सफ़ेद और ब्लड लिकोरिया रूक जाता है.एक महीने पियें.

२ हल्दी पीस कर ५ ग्राम की मात्रा में १० ग्राम शहद के साथ सुबह शाम चाट कर दूध पीने से दोनों प्रकार का लिकोरिया,धातु रोग,स्वप्न दोष,कमरदर्द,पेट के रोग दूर होते हैं,एक महीने पियें .

३ चावल का १० ग्राम पीस कर एक ग्लास पानी में घोलें और उसे २० ग्राम चौलाई के पीसे हुए कलक के साथ घोल कर पियें .स्वेत  लिकोरिया सात दिन में दूर होता है .

४ एक जाइफल पीस कर ५० मिली लीटर व्हिस्की या महुआ की मदिरा के साथ सुबह शाम लेने से तीन दिनों में बहत दिनों का रूका मंथली डिस्चार्ज भी खुल जाता है .संतान उत्त्पत्ति की बाधा दूर होती है.

५ सुबह शाम अपने चाँद के बाल को कंठ पर ५ मिनट रगारने से भी मंथली डिस्चार्ज खुलता है.

६ क्रमांक २ अति रज यानी (मासिक धर्म) मंथली में अधिक रक्त आने का भी इलाज है.

७ अपामार्ग का भस्म ,समुद्री शैवाल के अर्क मदिरा में चुआये अर्क के साथ प्रयोग (१ग्राम,१०बुन्द सुबह शाम ) करने से ४५ दिन में मोटापा,मासिक की रुकावट,गर्भाशय विकार,रक्त विकार,किडनी विकार,लीवर विकार,ह्रदय फेफड़े के विकार दूर होते है.गर्भवती के लिए वर्जित .

हमसे मंगवा सकते हैं

८ मदार के पत्तों को पीस कर, रात में नमक के गर्म पानी से पैर को धो कर,तलवों पैरों में लेप करके मोजा पहन कर सोएं.ऐसा कुछ दिन करने से गर्भाशय विकार,रक्त विकार,डाइबिटीज दूर होता है .

९.शरीफे का पत्ता,ओड्हुल का पत्ता,घी कवार के गुदे में घोट कर कुछ दिन रात में सर में मालिश करके प्लास्टिक कवर करके सोएं या दो घंटे लगाये रखें,फिर गर्म पानी से धोएं तीन दिन में जू,लीख,डैंड्रफ और मानसिक तनाव दूर होता है.कुछ दिन लगातार करें.

१० रात में गुदामार्ग के ऊपर मध्यमा ऊँगली का सिरा रख कर जल्दी जल्दी दबाते रहने का प्रयोग ५ मिनट प्रति दिन करने से एक महीने में कैसा भी श्वांस करोग दूर हो जाता है.लगातार इसका प्रयोग करते रहने से दोनों नासिका खुल जाता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *