प्रदर रोग चिकित्सा

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

पेट से सम्बन्धित रोग का इलाज

आँवले की गुठली, भुई आवले की गुठली, चौलाई की जड़, कुश की जड़, खिरेंटी की जड़ – इन सभी को पीसकर 20 ग्राम की मात्रा में चावल पीसकर घोलकर तैयार किये गये पानी के साथ प्रातः सायं लेने से लिकोरिया और सोम रोग दूर हो जाते हैं।

परन्तु इसके साथ श्वांस की कठिनाई भी है; तो आपको दोनों की दवा हमारे यहाँ से मँगवाकर खानी होगी। 15 दिन में रोग ठीक हो जाएगा, पर यह 45 दिन खानी होगी। 100% गांरटी के साथ हमारे यहाँ से चिकित्सकीय सलाह दी जाती है।

दोनों दवाओं का फुल कोर्स 1500 रु + 1500 रु.+100 रु डाक व्यय में प्राप्त होगा।

दवाएं अत्यंत अल्प मात्रा में प्रातः सायं खानी होती है।

विशेष – राशि जमा कराने के एक हफ्ते के समय में दवा भेजी जाती है।

 

सम्पर्क करें – 08090147878

Email- [email protected]

 

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *