ध्यान लगाने में सावधान रहें .

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

बहुतों की समस्या है कि ध्यान लगाने में कुछ दिनों बाद शरीर में कम्पन और आज्ञाचक्र पर स्पंदन सुरु हो जाता है . सर दर्द आदि की भी शिकायत हो रही है , यह अधूरे ज्ञान के कारन होता है . ध्यान लगाने में शरीर और मस्तिष्क का लुब्रिकेसन तेजी से घटता है . उर्जा चक्र गर्म हो जाता है और कम्पन एवं अन्य परेशानियाँ उत्पन्न होने लगती हैं .

धर्मालय साईट पर त्राटक में पहले ही इस विषय पर सावधान किया गया है . शुरू में दो मिनट से प्रारंभ करें . सर के चाँद ,नाभी , गुदा मार्ग को घी से पूरित रखें . गढ़ु भोजन नकारें . पेट साफ रखें .ब्रहम मुहूर्त में उठें . बिना न्यास ,बिना भूत शुद्धि के दयां लगाने पर यह परेशानी होती ही है और यह बहुत खतरनाक है .

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

One Comment on “ध्यान लगाने में सावधान रहें .”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *