अनार

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

अनार (Punica Granatum)

यह कई रोगों की दवा है. , बवासीर(Piles) , गंजापन(Hair Problem), टेपवर्म (Tapewarm) का यह  आयुर्वेदिक रामबाण इलाज है .

रोग- उन्माद , हिस्टीरिया , बवासीर(Piles) , गंजापन(Hair Problem), टेपवर्म (Tapewarm)

दवा– अनार के पत्तों को पानी में पीसकर , दिन में दो बार सर में मालिश करके सुखाकर धोने पर गंजापन(Hair Fall) मिटता है।

15 ग्राम अनार के पत्तें, 15 ग्राम गुलाब के फूल- पीसकर, आधा किलो पानी में मिलाये। 125 ग्राम बचे तो छानकर 15 ग्राम गे की घी के साथ पिलाए। सुबह शाम करें। इससे  हिस्टीरिया – पागलपन, मिर्गी मिटता है।

75 ग्राम अनार की जड़ की छाल, 3 किलो पानी में पीसकर डाल दें। 24 घंटे बाद मल कर उबालें। आधा पानी बचे तो छान लें। रोगी को रात से उपवास(Fast) करायें और सुबह से रात तक एक एक घंटे पर यह पानी पिलाते रहें। अन्य अन्न, पानी न दें। दूसरे दिन 25 ग्राम एरण्ड का तेल गर्म दूध के साथ पिलायें। आधुनिक इलाज में लाइलाज समझा जाने वाला टेप वर्म मरकर निकल जाता है। हुक वर्म और अन्य कीड़े में भी यही होता है।

 

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *