अनन्त मूल

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

अनन्त मूल (Hemidesmus Indicus)

यह कई रोगों की दवा है. , पाचनशक्ति(Digestive Power), रक्त( Blood), धातु( Sperm) का यह  आयुर्वेदिक रामबाण इलाज है .

रोग- यह कायाकल्प दवा है। पाचनशक्ति(Digestive Power), रक्त( Blood), धातु( Sperm), शरीर के समस्त तन्त्र पर इसकी क्रिया होती है। मूत्र विकार (Urine Problem), रक्त विकार (Blood Problem), चर्म रोग (Skin Problem), धातु की कमजोरी , कमजोरी, सुखा रोग – यह सबको दूर करता है। इसे वायविडंग के साथ लेना चाहिए।

दवा – 20 ग्राम अनन्त मूल + 10 ग्राम वायविडंग – कूटकर 200 ग्राम पानी में रात में डालें- सुबह मसल छानकर पी जाए, सुबह में डालें शाम में मसल छानकर पी जाएँ।

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *