आप यहाँ हैं
धर्मालय > Posts tagged "universe"

ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति – 01

जिस प्रकार वायु मंडल के एक बिंदु पर गर्मी के कारण वायु हल्की होके ऊपर उठती है, ठीक उसी प्रकार परमात्मा तत्व में एक बिंदु पर विकोचन होता है और वह स्थान घनत्व की दृष्टि से हल्का हो जाता है। चक्रवात की ही भाँती चारो और से इस परमात्मा (मूल्तत्व)

ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति के शास्वत सूत्र

ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति 'परमात्मा रुपी' अनंत विस्तार में होती है। इसकी उत्पत्ति और संरचना चक्रवात-जैसी होती है। अंतर केवल इतना होता है की वायु एक भौतिक पदार्थ है, इसलिए चक्रवात में सर्किट नहीं बनता, पर परमात्मा एक तेजमय तत्वा है, इसलिए उसमे धाराओं के घूर्णन एवं एक-दुसरे के काटने से

Top