आप यहाँ हैं
धर्मालय > Posts tagged "tantra"

अघोर,अघोरी, अघोर मार्ग का रहस्य; संक्षिप्त व्याख्या और आधार सूत्र

यहाँ वर्णित व्याख्या अघोर पंथ के गुप्त शास्त्रीय रूप की आधुनिक विज्ञानिक व्याख्या है. यह अघोर पंथ की नहीं, उसके आधार सूत्रों एवं स्वरुप की व्याख्या  है . यह इस रूप में कहीं भी किसी भाषा में उपलब्ध नहीं है . यह मौलिक  है ,इसलिए बिना धर्मालय के नाम का

काला जादू का रहस्य (आधुनिक एवं प्राचीन विज्ञान विश्लेषण)

हम पहले बता आये हैं कि  यह रसायन विज्ञान है. यह स्पष्ट कर देता है कि इसका विज्ञान क्या है. यह दूसरी बात है कि यह आधुनिक विज्ञान से बहुत आगे और दूसरे तरह का रसायन शास्त्र है. इसके नुस्खों का ज्ञान आधुनिक युग के advance अपराधियों को नहीं है,

सेक्स -प्रोब्लम (आयुर्वेद के नुस्खे)

सेक्स समस्या का उपाय  (आयुर्वेदिक इलाज )   १. शीघ्र पतन =दो महीने में पूर्ण छुटकारा = हम भीतर से मजबूत करके इस समस्या का निदान करते हैं , वियाग्रा जैसी हानिकारक योगों की सलाह नहीं देते ,जो तुरंत उत्तेजना भड़काते हैं .पूरी तरह कामयाब..= त्रि भस्म हरिद्रा = लोहा, तम्बा और

पारद एवं अन्य शिवलिंगों पर विशेष

पारद के शिवलिंग बाजार में उपलब्ध होते है। गर्म करने पर ये क्षरित होने लगते हैं। इससे यह तो ज्ञात होता है कि इसमें पारद है; पर वह रासायनिक योग से ठोस बनाया गया है। याह शोधित पारद नहीं होता। शिवलिंग के निर्माण में शोधित पारद की आवश्यकता भी नहीं

मन्त्रों की शक्ति के गुप्त रहस्य

मंत्र क्या है?इन्हें शिव की डमरू की ‘ध्वनि’ कहा जाता है। यह डमरू क्या है? भैरवी चक्र या श्री चक्र में इस डमरू को देख सकते है। वहाँ समझ में न आये , तो अपने कंधों से नितम्बों तक इस डमरू को देख सकते है। हमारे हाथ-पैर इस डमरू की

प्रश्न – महिलाओं के द्वारा देव पूजा के अधिकार के सम्बन्ध में विवाद जोरों पर है, इस सम्बन्ध में सनातन धर्म क्या कहता है?

उत्तर – इस सम्बन्ध में हम पहले ही बता चुके है। सनातन धर्म में महिलाओं को न तो पूजा से रोका गया है , न ही साधना से। उन्हें शास्त्रार्थ से भी नहीं रोका गया है। शंकराचार्य और मंडन मिश्र की पत्नी का शास्त्रार्थ जंग जाहिर है। शनि के देश

Top