आप यहाँ हैं
धर्मालय > Posts tagged "kundalini"

मिनटों, घंटों, दिनों में कुण्डलिनी जागरण? सावधान: यह खतरनाक धोखा है

बर्दाश्त करते करते अति हो गई है. आज कल ऐसे ऐसे महान पैदा हो गए हैं जो घंटों दिनों में कुण्डलिनी जाग्रत कर रहे हैं. कुछ ऐसे अघोरी पैदा हो गए हैं,जो फोन घुमाते ही कोई भी समस्या दूर कर देतें है. इनके पैदा होने से मुझे एतराज नहीं है.

कुंडली जागरण करना क्या है? 

प्रति दिन कई फोन आते हैं कि मैं कुडली जागरण करना चाहता हूँ. यह ऐसा ही है, जैसे एक अनपढ़ कहे कि वह पी.एच.डी. करना चाहता है. इस विषय पर धमाॆलय के साइट पर बहुत कुछ है, पर ये लोग पढ़ते नहीं. अब इतना परिश्रम कौन करे? बस गुरू जी

Top