आप यहाँ हैं
धर्मालय > Posts tagged "dharm"

क्या देवी देवता सचमुच होते हैं?

इस बौद्धिक युग में ,जिसे कुछ लोग वैज्ञानिक भी कहते हैं सचमुच यह जानना जरूरी है .सनातन धर्म और विज्ञानं आज विचित्र कीचड़ में फंस गया है.लोग जानना नहीं चाहते .बाबा लोग जो समझा रहे हैं , वहीं दुनिया उनकी आस्था है .बाबाओं की बातें ऊपरी मायाजाल से जुडी होती

ये सर्व शक्तिमान और रोता हुआ धर्म ज्ञान

आजकल धर्म की चमचमाती नदियों में बाढ़ आई हुई है. कोई धन दिला रहा है, तो कोई प्रेमिका. पति वश में नहीं है, तो ये तुरन्त एक उपाय से उसे आपका पालतू बना देंगे. काम नहीं बन रहा, बस एक नींबू काट कर आगे पीछे फेक दीजिये, सारे काम बनने

धर्म ज्ञान और मानव -जीवन

हम इस 'धर्म' शब्द का अर्थ समझने में हम सदा भ्रम में पड़ जाते हैं. इस शब्द के सामने आते ही पूजा -पाठ, तिलक-माला, मन्दिर-तीर्थ, देवी-देवता, आदि के दृश्य सामने आ जाते हैं . जो लोग बुद्धिवादी हैं, वे इसका अर्थ ‌मज़हब या रीलिजन लगाने लगते हैं. परन्तु हमारे ‌प्राचीन आचार्यों ने इसे इस

आध्यात्मिक सत्य क्या हैं?

एक कहता है परब्रह्म सत्य है , बाकी सब बकवास । कोई शिव को परमात्मा मानता है , कोई परमात्मा को निराकार, निर्गुण मानता है, कोई विष्णु का नाम जपता है , कोई देवियों की गाथा गाता है। किसी का कहना है कि खुदा ही एक मात्र सत्य है, तो

Top