आप यहाँ हैं
धर्मालय > वास्तु विद्या

मकान की शुभ और अशुभ स्थितियां

शुभ-अशुभ स्थितियां (क्रमांक -१) मुख्य दरवाजा  दिशाओं के विवरण में दिए गए सूत्र से शुभाशुभ जानें. बेडरूम वायुकोण और आग्नेय कोण एवं दक्षिण में अशुभ होता है. शेष में दोष नहीं माना जाता. ड्राइंग रूम आग्नेय और नैर्रित्त्य में अशुभ होता है. किचेन आग्नेय में शुभ होता शेष सभी जगह अशुभ है.  

वास्तु विद्द्या के सूत्र और नियम

वास्तु में ज्योतिष का उपयोग होता है. इसके बिना वास्तु के सूत्रों का उपयोग मूर्खत भूमि  १ पीली मिट्टी - यह उन लोगों के लिए उपुक्त है, जो वृहस्पति, चद्रमा और सूर्य प्रधान हैं. २ लाल मिट्टी - यह मंगल, सूर्य प्रधान लोगों के लिए उपुक्त है. ३ भूरी मिट्टी -यह शुक्र ,मंगल ,शनि

वास्तु का शाश्वत विज्ञान और इसका उपयोग

यह एक शाश्वत विज्ञानं है, जो बताता है की पदार्थ का निर्माण कैसे होता है और किसी इकाई का शाश्वत स्ट्रक्चर क्या होता है और उसकी चुम्बकीय तरगों का स्थान भेद से गुण क्या होता है. देवी देवता के रूप में वर्णित इस रहस्य को सिद्ध महात्मा भी नहीं जानते.

वास्तु विद्द्या का प्राचीन विज्ञान – एक परिचय

वास्तुविज्ञान का अर्थ यहाँ प्राचीन वास्तु विज्ञान है, जो वास्तव में सनातन पदार्थ विज्ञान है. जब यह सृष्टि उत्पन्न होती है, तो एक पावर स्ट्रक्चर बनता है, और इस ब्रहमांड की सारी इकाइयों में वही स्ट्रक्चर फॉर्म होता है. इस पूरे स्ट्रक्चर से सूक्ष्म उर्जतरंगों का उत्सर्जन होता रहता है,

वास्तु विज्ञान का रहस्य और भ्रम

वास्तु विज्ञान का रहस्य और भ्रम वास्तु विज्ञान का रहस्य और भ्रमआजकल परम्परागत भारतीय वास्तु विद्या की धूम आयुर्वेद की तरह मची हुई है। लोग रहस्यमय कौतुहल के साथ इसे जानना-समझना चाहते हैं। अनेक लोग प्रश्न करते है कि क्या सचमुच इसका प्रभाव जीवन पर पड़ता है? पड़ता है, तो

Top