आप यहाँ हैं
धर्मालय > दिव्य तांत्रिक चिकित्सा (Page 2)

धर्मालय की चमत्कारिक औषधियों का रहस्य

आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों से लाइलाज रोगों का इलाज़ बहुत से लोग हमसे जानना चाहते है कि क्या हमारी औषधियाँ मंत्र सिद्ध होती है? या क्या आयुर्वेदिक होती है? इसी प्रकार के अनेक प्रश्न होते है। हम उत्तर देते है; नहीं। या आधुनिक किसी भी चिकित्सा विधि से निर्मित नहीं होती। इन

बालकों के सामान्य रोग और इलाज

वमन, दस्त, खाँसी, ज्वर – अपने शहर की जड़ी-बूटी की दूकान पर चले जायें। नागरमोथा, काकड़ासिंगी , जवासा, अतीस और पीपल – 100-100 ग्राम लेकर धोकर सुखा लें। इन्हें कूटकर मिक्सी आदि से महीन चूर्ण बनाकर कपड़े से छान कर रख लें। इस चूर्ण को जरा-जरा सी मात्रा में शहद

प्रदर रोग चिकित्सा

पेट से सम्बन्धित रोग का इलाज आँवले की गुठली, भुई आवले की गुठली, चौलाई की जड़, कुश की जड़, खिरेंटी की जड़ – इन सभी को पीसकर 20 ग्राम की मात्रा में चावल पीसकर घोलकर तैयार किये गये पानी के साथ प्रातः सायं लेने से लिकोरिया और सोम रोग दूर हो

रोगों का आयुर्वेदिक इलाज

बिमारियों का देसी इलाज यदि आपको अपने रोग या समस्याओं का स्वयं निदान हमारी वेबसाइट पर नहीं मिल रहा है, तो 100% सम्पूर्ण निदान के लिए हमसे सम्पर्क करे। हमारे यहाँ प्रत्येक व्यक्ति की समस्या के लिए पूछताछ करके अलग-अलग दवाएं बनवाई जाती है। हम केवल दवा नहीं भेजते हैं। हम

सेक्स समास्याओं के लिए निम्नलिखित प्रश्नों की जानकारी देते हुए सम्पर्क करे

सेक्स समस्याओं का देशी इलाज पेशाब की स्थिति बताये . अधिक होता है कम होता है सामान्य है .. पेशाब में किसी प्रकार जलन कष्ट या किसी प्रकार के दुर्गन्ध का एहसास होना और जो भी इसके बारे में बता सकते है , पखाने की स्थिति - सामान्य रहना ,

आयुर्वेदिक मधुमेह(डायबिटीज) इलाज

मधुमेह(डायबिटीज) का देशी इलाज मधुमेह(डायबिटीज) में यदि रोगी को विशेष कमजोरी महसूस नहीं होती, चेहरे का तेज नहीं  घटता , कमजोरी होती है परन्तु ऐसी नहीं जिसमें चेतना शून्यता उत्पन्न हो। ऐसे रोगी को बहुत प्यास लगती है, भूख भी ज्यादा लगती है, पेशाब में चीनी , यूरिया आदि होते है

चमत्कारिक महादुर्गा तेल

गठिया रोग, पक्षाघात, नसों के दर्द, स्नायविक दर्द, संधि पीड़ा, हड्डीयों की दुर्बलता की तन्त्र सिद्ध चमत्कारी दवा ‘महाबला अर्क’ और ‘महादुर्गा तेल’ श्री महादुर्गा तेल – बकायन के फल या पत्ते, मदार के पत्ते , सम्मालू के पत्ते, एरण्ड के पत्ते, सेंहुड के पत्ते, भांगरा के पत्ते, कनेर के

क्या बिना शुक्राणु के संतानोत्पत्ति हो सकती है?

सेक्स समस्याओं का देशी इलाज(दवा) बिना बीज के धरती पर अंकुर उत्पन्न नहीं होता। आपने कहा है कि तन्त्र में तो सबकुछ संभव है। आपका कहना सत्य है।  इसके लिए अनुष्ठान है; पर वे बेहद जटिल और कठिन है। स्त्री द्वारा मंत्र जप करके अनुष्ठान करना पड़ता है। प्रारंभ में तिन

सन्तान प्राप्ति सम्बन्धी समस्या के उपाय

सेक्स समस्याओं का देशी इलाज(दवा) सन्तान प्राप्ति से सम्बन्धित समस्या के कारण निम्नलिखित हैं: पुरुष से सम्बन्धित सेक्स में असमर्थता शुक्राणु की कमी या दुर्बलता वीर्य में अत्यधिक गर्मी या शीलता वीर्य का ब्रह्मचर्य आदि व्रतों के कारण अत्यधिक गाढ़ा हो जाना। यह सर्दी से भी होता है। स्त्री/पुरुष की प्राकृतिक नस्ल

स्त्री/पुरुष कायाकल्प पैकेज

सुन्दरता के लिए क्या करें? प्रत्येक को सुंदर , जवान, प्रसन्न, शक्ति से भरपूर रहने की इच्छा होती है। इसके लिए वे तरह-तरह के संसाधनों का प्रयोग करते हैं। ब्यूटी पार्लर में जाते है, जिम खाने में  परिश्रम करते है; स्त्रियाँ डाइटिंग करने अपना स्वास्थ और स्त्रित्त्व  के गुणों को खो

Top