दम्मा की चिकित्सा

पान का रस , अदरख का रस, अनार का रस, प्याज का रस, लहसन का रस, पिक्कार का रस 100-100 ग्राम; पीपर 100 ग्राम, काली मिर्च 60 ग्राम। इनको मिला …

Read More

दिव्य रसायन योग

शंखभस्म 13 %, लौह भस्म 4%, गंधक-शोधित 3 %, सोरा शोधित 2%, वनस्पति नमक 2 %, वनस्पति सोमक्षार 30 %, अपामार्ग भस्म 46 %। यह दिव्य रसायन योग है। यह …

Read More

स्वप्न दोष और धातुपतन चिकित्सा

यह रोग आज प्रत्येक नवयुवक को परेशान किये रहता है । वे जाने कहा – कहा जाकर अपना स्वास्थ नष्ट कर लेते है। यह 100 % दूर हो जाने वाला …

Read More

मुरली एवं देवदाली का काढ़ा

यह गुरुदेव द्वारा शोधित औषधि है। इसमें से एक को 10 % कालीमिर्च के साथ 20 ग्राम चूर्ण को 160 ग्राम पानी में उबालें। जब 40 ग्राम जल रह जाये, …

Read More

मधुमेह चिकित्सा

बड़ा गोखरू (पत्ते,फल, एवं जड़ सहित ), विजय सार, चिरौंजी, साल की सारिल लकड़ी, खैर की सारिल लकड़ी, बबूल की छाल, अपामार्ग की जड़ – इन सबको अलग-अलग कूट-पिस कर …

Read More

सुदर्शन चूर्ण

पीपर, अरलवेत, पीपरामूल, धनियाँ, काला जौ, सेंधा नमक, संचर नमक, तालीस पत्र, नाग केसर, काला नमक , तेजपत्ता- 100- 100 ग्राम चूर्ण; कालीमिर्च, सफ़ेद जीरा, सोंठ 50-50 ग्राम; दाल चीनी …

Read More

मन्दाग्नि चिकित्सा

A. बालकों को अरुचि या मन्दाग्नि हो, तो 50 ग्राम सौंफ को साफ़ करके कूटकर रात में 100 ग्राम पानी में डालकर छोड़ दें।सबेरे मसलकर छान लें। इसमें 400 ग्राम …

Read More

संगृहिणी रोग (पाचन क्रिया के गड़बड़ी का रोग )

औषधि –जायफल, लौंग, इलाइची, तेजपत्ता, दालचीनी, मागकेसर, सफ़ेद चन्दन, सफ़ेद तिल, कपूर, वंशलोचन, तगर, आवंला, तालिसपत्र, पीपल, हरर्र, मंगरैला, चीता, सोंठ, वायविडंग, कालीमिर्च- यह 20 औषधि 25-25 ग्राम चूर्ण करके …

Read More

बवासीर

150 ग्राम सोंठ, 200 ग्राम कालीमिर्च, 100 ग्राम पीपर, 50 ग्राम चव्य, 50 ग्राम तालीस पत्र, 25 ग्राम नाग केसर , 100 ग्राम पीपरामूल, 90 ग्राम तेज़पत्ता, 15 ग्राम छोटी …

Read More

पीलिया और हेपेटाईटिस बी

औषधि- त्रिकुटा, त्रिफला, मोथा, वायविडंग, चीते की छाल, चिरायता, नीम की छाल, कुटकी, गिलोय, हरर्र, हल्दी, दारुहल्दी, बरियारा, जेठीमधू, लौह-भस्म- को छाया में सुखाकर या सुखा हुआ लेकर चूर्ण करके …

Read More