आप यहाँ हैं
धर्मालय > दिव्य तांत्रिक चिकित्सा

मिर्गी, हिस्टीरिया और प्रेतग्रस्त का अन्तर

मिर्गी इसे संस्कृत में अपस्मार कहा जाता है। यह नर्वस सिस्टम की एक बीमारी है। कारण अभी तक आधुनिक चिकित्सा को ज्ञात नहीं है। तन्त्र विद्या में कहा गया है की (भावार्थ डिस्कवरी) – मस्तिष्क में विद्युतीय प्रवाह के बाधित होने से यह रोग होता है। इसमें पृथ्वी की ऊर्जा जो

हर युवक-युवती , माँ-बाप के लिए अमृत कलश (डिप्रेशन सलूशन)

डिप्रेशन सलूशन यह आज विश्व की एक बड़ी समस्या है। प्रतिवर्ष जीवन से निराश होकर आत्महत्या(Suicide) करने वालों की संख्या तेजो से बढ़ती जा रही है। यह विश्व भर के चिकित्सकों, मनोरोग विशेषज्ञों के लिए चिंता का विषय है; पर वे विश्व मानवता को इसका कोई निदान देने में सक्षम नहीं

कायाकल्प हरिद्रा संख भस्म महायोग

कायाकल्प औषधि रोग (Disease)-  यह एक ही दवा गठिया (Arthritis), जोड़ो का दर्द (Joint Pain), कमर दर्द (Back Ache), घुटने का दर्द (Knee pain), तिल्ली और लीवर, पेट के रोग(Stomach diseases), आँतों के जर्म, रक्त विकार (Blood Problem), आँखों की दुर्बलता (Eyes Problem), गैस, एसिडिटी और कुछ अनुपान के साथ प्रयोग

कायाकल्प योगिनी पाउडर

कायाकल्प औषधि रोग(Disease) -  त्वचा रोग(Face Problem) , त्वचा का रूखापन(Skin rigidity) , झुर्री(Wrinkle), दाग(stain) , यौनांग का ढीला होना(Penis Problem), स्तनों का ढीलापन(Looseness of breasts) , कम विकसित स्तन(Less developed breasts) , चेहरे के मुहासे एवं झुर्रियां(Facial acne and wrinkles) , बेजान त्वचा(Lifeless skin)  21 दिन के प्रयोग में इन

क्रोनिक कब्ज

क्रोनिक कब्ज(Chronic Constipation) लगातार बने रहने वाला कब्ज, जो रुक - रूककर या लगातार परेशान करता है। आयुर्वेद में कब्ज को दूर करने के अनेक उपाय हैं. कब्ज की कई दवाएं भी वर्णित हैं. पर यहाँ दिया गया उपाय कब्ज को दूर करने का घरेलु उपाय है. कब्ज़ का घरेलू और देसी

गले की खरास

गले की खरास (Sore Throats) कारण (Causes) – गले की खरस और गला ख़राब होने के कई कारण हो सकते हैं जैसे हानि पहुँचाने वाले किसी पेय की पीना, अत्यधिक ठंडा पानी (Cold Water) पीना, पेट की गर्मी, स्वर नली और कंठ नली को नुक्सान पहुंचाने वाले किसी वस्तु का खाना. लक्षण (Symptoms)

कब्ज

कारण (Causes) – पाचन शक्ति(Digestive Power) का कमजोर होना या पाचनशक्ति की सामर्थ्य से अधिक की कोई चीज खाना , पेट की गर्मी, एनीमिया , कोई लम्बी बिमारी लक्षण (Symptom)– लैट्रिन बिल्कुल न होना , कभी-कभी होना, पर  बहुत कम और सूखा होना, मल का काला पड़ा होना, गैस बनना, डकारें

लिकोरिया, ब्लड लिकोरिया, एनेमिया, मंथली ब्लड, बोन पेन, तंत्र मन्त्र आयुर्वेदिक चिकित्सा

तंत्र मन्त्र आयुर्वेदिक चिकित्सा १.आंवला ५ बीज सहित पीस कर सुबह शाम पानी में घपल कर गुर मिला सरबत बना कर पीने से तीन दिन में सफ़ेद और ब्लड लिकोरिया रूक जाता है.एक महीने पियें. २ हल्दी पीस कर ५ ग्राम की मात्रा में १० ग्राम शहद के साथ सुबह शाम चाट

सेक्स -प्रोब्लम (आयुर्वेद के नुस्खे)

सेक्स समस्या का उपाय  (आयुर्वेदिक इलाज )   १. शीघ्र पतन =दो महीने में पूर्ण छुटकारा = हम भीतर से मजबूत करके इस समस्या का निदान करते हैं , वियाग्रा जैसी हानिकारक योगों की सलाह नहीं देते ,जो तुरंत उत्तेजना भड़काते हैं .पूरी तरह कामयाब..= त्रि भस्म हरिद्रा = लोहा, तम्बा और

कब्ज : अनेक रोगों का एक कारण

कब्ज़ की आयुर्वेदिक दवा और इलाज उबालकर सिझाया प्याज, गुलाब के फूल, नरम सुपाच्च खाना , सभी प्रकार की हरी सब्जी , पका केला, कच्चा केला सब्जी में, केले के फूल की सब्जी, सभी तरह के साग, मूंग की दाल, रोटी के साथ शहद या गुड़, भोजन से एक घंटा पहले

Top