आयुर्वेदिक जड़ी बूटी

“धर्मालय की जड़ी-बूटियाँ ”
धर्मालय पर जिन मेडिकल हर्बल प्लांट के विवरण दिए गये है; वे गुण (प्रॉपर्टीज) हजारों वर्षों से भारत में जाने और प्रयोग किये जा रहे है. ब्रिटिश शासनकाल में इन पर वैद्यों एवं बहुत से ब्रिटिश यूरोपियन डॉक्टरों एवं रिसर्चरों ने रिसर्च करने के बाद इन लाभों को सही पाया है. ब्रिटिश मेडिको फार्मा की इंटरनेशनल मेडिसिन बुक में इन्हें लगातार रेकॉर्ड किया जाता रहा है. ब्रिटिश काल में भारत में इन मेडिकल प्लांटों को ‘हुकमी दवा ‘ कहा जाता था. इसका अर्थ था, गवर्मेंट द्वारा रेकोमेंडेड. जो लाभ बताये गये है, उन्हें धर्मालय ने भी परीक्षित किया है और सही पाया है. इन्हें अपनी रोग- शोक- चिंता के लिए निः संकोच प्रयोग किया जा सकता है.