स्त्री की कुंडली में विवाह, पति , गृहस्थ सुख, सन्तान आदि

(कैसे देखें) कुंडली में भाव अथवा खाने की गणना बायीं ओर से घूमते हुए (एंटी क्लॉक वाइज) की जाती है। स्त्री के किस खाने से किस विषय का ज्ञान होता …

Read More

क्या ज्योतिष विद्या विज्ञान है? इसका वैज्ञानिक स्वरुप क्या है? हमने अपना जन्मदिन डिटेल्स भेजा था, आपने कुछ बताया नहीं।

यह दो व्यक्तियों के प्रश्न है । इन पर पहले भी हम कई बार प्रकाश डाल चुके हैं। यह पोस्ट किसी बहस के लिए नहीं है। यह सूचना है और …

Read More

शादी के चार साल हुए , सन्तान नहीं होती; क्या करें?

सन्तान न होने के कई कारण होते है। यदि मेडिकली स्त्री-पुरुष स्वस्थ है; तब मासिक की स्थिति , गर्भाशय में गर्मी –शर्दी की स्थिति, योनि स्त्राव का एसिडिक होना, विर्या …

Read More

कोई काम सफल नहीं होता , क्या करें?

यह विषय जन्म कुंडली से सम्बन्धित होता है। इसके कई कारण होते है। बृहस्पति का खराब होना (पितृ दोष आदि); बुध का राहु- शनि- केतु से विकृत होना, मंगल को …

Read More

पितृ दोष का निवारण कैसे किया जाए ?

इसके दो उपाय है – पितृ दोष में बृहस्पति खराब होता है क्योंकि बृहस्पति के खाने में पापी ग्रह बैठ जाते है।इसका अर्थ यह होता है कि पितरों ने (सात …

Read More

ज्योतिष के उपायों से सावधान

(यह उन लोगों के लिए नहीं है, जो ज्योतिष पर विश्वास नहीं करते। वे पढ़े ही नही। निरर्थक अपनी विद्वता न झाड़े। उन्हें यह बहस भारत सरकार से करनी चाहिए।) …

Read More

ज्योतिष के उपायों से सावधान

(यह उन लोगों के लिए नहीं है, जो ज्योतिष पर विश्वास नहीं करते। वे पढ़े ही नही। निरर्थक अपनी विद्वता न झाड़े। उन्हें यह बहस भारत सरकार से करनी चाहिए।) …

Read More

क्या ज्योतिष के द्वारा अगला-पिछला जन्म जाना जा सकता है?

इसकी एक प्राचीन विधि का मुझे ज्ञान है। यह मुझे अपने प्रारंभिक गुरु से ज्ञात हुई थी, जब मैं इन बातों पर विश्वास ही नहीं करता था।पर उन्होंने मेरे जीवन …

Read More

क्या ज्योतिष विद्या सच है?

क्या सच में ज्योतिष विद्या होता है? या यह केवल अंधविश्वास है। अगर होता हैं, तो लोग इतने परेशान क्यों हैं? ज्योतिष भविष्य जानने की एक विद्या है और यह …

Read More

दाम्पत्य कलह से कैसे छुटकारा प्राप्त करें?

प्रत्येक कलह के दो ही कारण होते हैं। स्वार्थ और अहंकार का टकराव। कलह चाहे पति-पत्नी के बीच हो , सास-बहु के बीच हो, दो मित्रों के बीच हो, पड़ोसियों …

Read More