आप यहाँ हैं
धर्मालय > हमारा उदेश्य

1 -आपको आधुनिक वैज्ञानिक व्याख्या के साथ धर्म और धर्म में व्याप्त मानवहित का ज्ञान कराना
2 – अध्यात्मिक क्षेत्र के प्रयोगों ; तंत्र –मंत्र –वास्तु आदि के प्रयोगों एवं चमत्कारिक नुस्खो द्वारा आपकी जटिल समस्याओं का सरल निदान आपको बताना
3– सभी प्रकार की धार्मिक पुस्तको को आपको घर बैठे उपलब्ध कराना , इनमे प्रसिद्ध पुस्तकें तो हैं ही ; अनेक गुप्त तांत्रिक –मान्त्रिक पुस्तकें भी हैं ; जिनका ज्ञान साधु –संतो को भी नहीं हैं।
4- सभी प्रकार की गुप्त सिद्धियों , साधनाओ , पूजा , मंत्र सिद्धियों की विधियाँ बताना और ऑनलाइन निर्देश से इनकी सिद्धियाँ करवाना
5-विशेष रूप से सिद्ध यंत्रो ,पिरामिडो और मालाओ को उपलब्ध कराना . हमारे पास 1500 प्रकार के गुप्त दुर्लभ यन्त्र और 27 प्रकार की माला सिद्ध स्वरुप में प्राप्त हो सकती। (सूची देखे )। हम 36 प्रकार के सिद्ध पिरामिड उपलब्ध कराते हैं।ये सारी वस्तुएं आवश्यकता पड़ने पर इस क्षेत्र के विशेषज्ञों द्वारा उपलब्ध कराई जाती हैं।
6-पूजा – पाठ , तंत्र –मंत्र और सिद्धियों में प्रयोग होने वाली दुर्लभ वस्तुओ के साथ , सभी प्रकार के चन्दन , दिव्य–रसायन , दिव्य-लेप, रोली , कुमकुम ,दिव्य-धूप ,आसन, आदि उपलब्ध कराना .
7-तंत्र के गुप्त प्रयोगों एवं नुस्खों को बताना ; जो समस्याओं ,रोगों, ग्रह दोषों , आधिदैविक प्रकोपों , भूत-प्रेत बाधा , पारिवारिक , सामाजिक – एवं व्यासायिक समस्याओं को चमत्कारीक रूप में दूर करतें हैं।
8-असंभव कामनाओं के पूर्ति के भी मार्ग बताना और प्रयोगों के लिए सामग्री उपलब्ध कराना .
9 – धर्म जिज्ञासाओ का उत्तर देना .
10 – गुप्त व्यक्तिगत समस्याओं का निदान बताना , ई–मेल से सम्पर्क करें। गुरुवर स्वयं सप्ताह में एक बार सभी पत्रों का उत्तर देते हैं।(यह सेवा नि:शुल्क हैं )
11 – जन्मकुंडली के अनुसार पढाई , रोजगार ,शादी , प्रेम आदि समस्त विषयों के कारण और निदान बताना।

 

2 thoughts on “हमारा उदेश्य

  1. Sir namaskar.meri ek nhi bhuut sari prblm hai. Charo taraf se buss prblm he prblm hai. M aapse kese contact karu pls btaye

  2. Acharya main shunya siddhi yantra ki vidhi Janna chahta hu Jo vindhywasini keelak se siddh aur siddh beej se samputit ho Maine Kai sadhko se poocha but kaion ne to naam hi pehli baat suna h ki vindhywasini keelak se bhi yantra siddh hota h

Comments are closed.

Top