आप यहाँ हैं
धर्मालय > Uncategorized > हल्दी

हल्दी

  1. हल्दी की माला बनाकर ‘ॐ ह्रीं श्रीं श्रीं श्रीं कमलाये नम: |’ – मंत्र 1188 बार जपने से धन, भोग, प्रेम और विवाह सम्बन्धी मनोकामना पूर्ण होती है |
  2. हल्दी के मनकों की माला पहनने और श्रीमंत्र का जाप करने से सभी कामनाएं पूर्ण होती हैं |
  3. हल्दी, दारु हल्दी, काली हल्दी, सहदेई और गोरोचन को घोट-पीसकर, 1188 मंत्र से सिद्ध करके तिलक करें, तो जो देखे वश में हो जाये |
  4. हल्दी, धनिया, बरगद की जड़, आक की जड़ और आम की जड़ या गूलर की जड़-इन सबको हल्दी रंगे कपड़े में बांधकर 108 मन्त्रों से सिद्ध करके घर के उत्तर में दबा दें | तीन दिन बाद इसे निकालकर तिजोरी में रखें, तो धन कभी न घटे |
  5. गांठ समेत हल्दी का पौधा उखाड़कर कार्तिक माह की षष्ठी की सुबह सूर्योदय के समय 108 सूर्य मंत्र या विष्णु मंत्र से अभिमंत्रित करें | अभिमन्त्रण के समय कमर-भर स्वच्छ जल में नंगे पांव नग्न होकर या एक वस्त्र में (भीगा) खड़े रहें और सूर्य की ओर मुख रखें |

यह पौधा घर के दरवाजे पर लगा दें, तो सूखने पर भी सभी मनोकामना की पूर्ति होगी |

2 thoughts on “हल्दी

  1. प्रणाम श्रीमान,
    मेरी जन्मतिथि 30/12/1992 है और जन्म का समय दोपहर 3:58 बजे है जन्मस्थान जिला हरिद्वार
    श्रीमान मेरा मन शिक्षा से दूर भागता है
    कई बार विफलताओ का सामना कर चुका हू सफलता कही नज़र नही आती
    कृपया कोई उपाय बताईय श्रीमान मै बहुत दुखी हू
    आपकी अति कृपा होगी
    धन्यवाद
    – विकल कुमार (real name)

Leave a Reply

Top