हड्डियों, जोड़ों, नसों और कमर का दर्द

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

गठिया, जोड़ों का दर्द, नसों का दर्द, हड्डियों का दर्द, टूटी हड्डी, कमजोर हड्डी, बहुमूत्र, वातरोग, शरीर का दर्द, कमरदर्द की रामबाण चमत्कारिक आयुर्वेदिक दवा.

जो लोग इन रोगों से परेशान भटक रहे हैं, वे ‌नीचे दिए गए नुस्खे का प्रयोग करके देखें. 15 दिन में ही जो चमत्कार नजर आता है, वह चकित करने वाला है. यह कई व्यक्तियों पर परीक्षित है. 100% गारन्टी के साथ बना कर प्रयोग करें.

देशी हल्दी 250ग्राम, शंख या बड़ा सीप 200ग्राम, 50 ग्राम बकायन के बीजों की गुठली,‌ 50ग्राम निशोथ.

विधि – शंख को कोयले की आग में तपा तपा कर नीबू का रस डालते रहें. जब वह टूट कर टुकड़े हो जायें, तो मिट्टी के छोटे बर्तन मे डाल कर, ढक्कन लगा कर आधा इंच मोटी मिट्टी लेव कर सुखा लें. फिर उसे कोयले के बीच रख कर आग फूंक दें. ठंडा होने पर उसमें से भस्म निकाल लें. बकायन के बीजों की गुठली और निशोथ को पीस कर, 2 लीटर पाी में घोलें. इसमें शंख भस्म और हल्दी डालकर ढंक दें. इस मिट्टी के मटके को धूप में डालें. 15 दिन छोड़ें पानी सूखने न दें. 15 दिन बाद निकाल कर एक दिन धूप दिखायें, फिर कूच दें. इसके बाद अच्छी तरह सुखा कर महीन चूर्ण कर लें.

इसकी मात्रा 2-2ग्राम सुबह शाम है. गमॆ दूध के साथ लें. सावधानी -किसी भी दवा को पहले आधी मात्रा से ही शुरु करें .दो दिन बाद बढ़यें .

लाभ -15 दिन में इन रोंगों से अपाहिज भी चलने लगता है .यह रोग को जड़ से मिटाती है. इसे कम से कम दो महीने प्रयोग करना चाहिए

(यह दवा हमारे द्वारा आर्डर देकर बनवाने पर‌ 1600 रु एक महीेने का व्यय पड़ेगा)

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

13 Comments on “हड्डियों, जोड़ों, नसों और कमर का दर्द”

    1. एक महीने की नहीं यह दो महीने का कोर्स होता है. रु 750 + रु 100 डाक व्यय. यह खाने की दावा है. लगाने के लिए काल भैरव तेल रु 900. कुल रु 1750 कीमत होती है. यह राशी अकाउंट में जमा करने के बाद स्पीड पोस्ट के द्वारा भेजा जाता है. आप चाहें तो केवल खाने की भी दावा मंगवा सकते हैं. और साधारण तिल का तेल का प्रयोग कर सकते हैं.

  1. Namaskaar
    Kya aap ye dava bhej sakte hai
    Paiment kis account me kitna pana hai
    Kripya likhe. Hath par ke joro me dard rahta hai.
    Add
    R.c.thakur
    1513/30/4 st Na.8 opp. Dashahra grond
    Hrakishan nagar shimla puri Ludhiana 141003 pb
    08-12-2016

    1. हमारे यहाँ कोई दवा नहीं बनती .जो नही बना सकते ,उसे अपने नुस्खे पर एक लोकल वैद्य से बनवा कर भेजते हैं. पर इस समय सूखने की परेशानी है .आप 3ग्राम लहसुन ,10ग्राम काला तिल और 10 ग्राम तिल का तेल मिला कर सुबह खाली पेट पियें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *