आप यहाँ हैं
धर्मालय > दिव्य तांत्रिक चिकित्सा > सेक्स रोगियों के लिए वरदान; गारंटी है, धोखा नहीं होगा

सेक्स रोगियों के लिए वरदान; गारंटी है, धोखा नहीं होगा

कोई माने या न माने, यह एक कटु सत्य है कि विश्व में 75 प्रतिशत स्त्री-पुरुष सेक्स की समस्याओं से ग्रसित है। 25% की स्थिति नाजुक है। हमारे पास ऐसे ईमेल आते रहते है और लोग ‘आत्माहत्या’ करने की बातें करते है। कितने विस्मय की बात है कि तन्त्र एवं आयुर्वेद ग्रंथों में इन गंभीर रोगों के निदान के नुस्खें भरे पड़े है। अनेक हमारे वेबसाइट पर उपलब्ध है; पर निराश लोगों को विश्वास ही नहीं है। एलोपैथ में तो इसकी कोई दवा ही नहीं है और आयुर्वेदी-हकीमी के नाम पर भी आज ठगों-लुटेरों का साम्राज्य कायम है। लोग लुटते रहे है और उनको लगता है कि धर्मालाय भी ऐसी ही कोई संस्था होगी।

हमारे पास विश्वास दिलाने का कोई तरिका नहीं है। हम केवल इतना कह सकते है कि यह एक विश्व प्रसिद्ध आध्यात्मिक रिसर्चर, विशेषज्ञ की वेबसाइट है; जिसकी 100 से अधिक पुस्तकें बुक स्टालों , रेलवे बुक – स्टालों और देश –विदेशों में बिकती रही है और आदर से पढ़ी जाती है। 40 वर्ष की उम्र तक ये देश के जाने-माने पत्रकारों में से एक रहे है। हमारा उद्देश्य जनकल्याण है, धन कमाना नहीं।

आप निसंकोच हमारे ईमेल – info@dharmalay.com पर अपनी पूरी हिस्ट्री भेज कर अपनी औषधि मंगवा सकते है। हमारे यहाँ प्रत्येक बात गुप्त रखी जाती है, इसका हम वचन देते है। आपको अपनी समस्या दूर करने के लिए धन कितना व्यय करना होगा; इसके विवरण नीचे दिए जा रहे है । यह फुल कोर्स है।

स्त्री रोग –

  1. श्वेत लिकोरिया               –                                       1200 रु.
  2. रक्त लिकोरिया –                                                    1500 रु.
  3. गर्भाशय विकार मासिक कि गड़बड़ी –                  1200 रु.
  4. रतिक्रीड़ा में कष्ट –                                                 1500 रु.
  5. गर्भाशय एवं योनि प्रदाह (जलन) –                       2100 रु.
  6. योनि एवं स्तनों का ढीलापन –                               1500 रु.

पुरुष रोग –

  1. बहुमूत्र –                                                                                     1500 रु.
  2. स्वप्नदोष – धातुपतन –                                                              1600 रु.
  3. लिंग नस विकार –                                                                     2000 रु.
  4. शीघ्रपतन –                                                                                 1500 रु.
  5. स्तम्भन योग –                                                                            2200 रु.
  6. काम शक्ति, उत्तेजना एवं स्तम्भन (एक महिना) –                     2200 रु.
  7. धातु की कमी –                                                                          1600 रु.

 

वातरोग, सन्धिवात, गठिया

शरीर में दर्द , गैस्टिक, खट्टी-तीती , डकार, नसों में दर्द, कमर में दर्द, जोड़ों में दर्द, गठिया आदि सेक्स ही नहीं सभी प्रकार के कर्मों को नष्ट कर देते है। कष्ट-यन्त्रणा-मानसिक तनाव अलग होता है।यह स्त्री-पुरुष दोनों का जीवन नर्क कर देता है। इससे कब्ज , अतिसार, संतान बाधा, सेक्स की कमी, सर दर्द , शरीर के अंदर जगह-जगह दर्द अनेक उपसर्ग पैदा होते है।

  1. दो वर्ष के अंदर का रोग ( फुल कोर्स) –               2500 रु.
  2. दो से पांच वर्ष का रोग –                                      5200 रु.
  3. पांच वर्ष से ऊपर का रोग –                                 9000 रु.

 

(नोट – 1. पहला सबको लाभ करेगा और दवा प्रयोग होने तक बिमारी परेशान नहीं करेगी; पर पुराना होने पर रोगी ठीक नहीं होगा; उसकी विशेष चिकित्सा होती है)

  1. ये सारी देशी दवाएं है; जो पहले घर-घर में प्रयुक्त होती थी। परिवार की औरतें भी जानती थी और अपनी इलाज खुद कर लेती थी। पुरुषों के रोग देशी वैद्य ठीक कर दिया करते थे। जो आज गंभीर समस्या है; वह तब साधारण बातें थी। पहले यह सब खेतों, जंगलों में मिल जाता था। दूकानों पर भी कीमत कम थी। अब ये दुर्लभ है

 

सम्पर्क करें – 08090147878, email – info@dharmalay.com

10 thoughts on “सेक्स रोगियों के लिए वरदान; गारंटी है, धोखा नहीं होगा

    1. हमारे पास 100% उपाय है . पर यह एक लाइन में कहने से काम नहीं चलेगा . 13 साल से आपने बहुत कुछ जांच इलाज भी करवाया होगा| कृपया निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दें —

      1. अपने शुक्राणु की स्थिति ?
      2. पत्नी के गर्भाशय में या tube में किसी विकार की स्थिति ?
      3. मासिक धर्म की स्थिति ?
      4. अपने एवं पत्नी के शरीर में आंतरिक गर्मी या शर्दी की स्थिति ?
      5. रतिक्रीड़ा में संतुष्टि या असंतुष्टि की स्थिति ???

      इन 5 प्रश्नों का सही सही उत्तर देने पर ही क्या निदान करना है यह जाना जा सकता है? बिना इसके जाने कोई चिकित्सा संभव नहीं

    2. गुरूजी! मैंने आपकी वेबसाइट पर कहीं पढ़ा था की आपके आश्रम में वह ताबीज मिलता है जिसे जब तक बाँध कर रखा जाए वीर्य स्खलित नहीं होता है……..

      कृपया मार्दर्शन करें.

      Leave a Reply

      Top