आप यहाँ हैं
धर्मालय > दिव्य तांत्रिक चिकित्सा > सेक्स प्रॉब्लम : क्यों चमत्कारिक है; धर्मालय द्वारा आविष्कृत औषधियाँ

सेक्स प्रॉब्लम : क्यों चमत्कारिक है; धर्मालय द्वारा आविष्कृत औषधियाँ

(प्रत्येक स्त्री/पुरुष पूरा पढें)

हम पहले ही बता आये है की हम किसी भी औषधि के निर्माता या विक्रेता नहीं है। हमने प्राचीन ग्रन्थों के उन अतिगुप्त तांत्रिक विधि और फोर्मुले को अपनी वेबसाइट पर चढ़ा रखा है। कोई भी व्यक्ति स्वयं अपने घर में उस दवा को बना सकता है। औषधियां सरल हैं (जटिल हमने दिया गी नहीं है) और जड़ी-बूटियों की दूकानों पर मिल जाती है।आप अपने गंभीर और आधुनिक चिकित्सा पद्धति में लाइलाज समझनेवाले रोगों का स्वयं इलाज कर सकते है। यहाँ सेक्स की दवाएं भी है; पर इनके प्रयोग में अनेक जटिलता है।

हम केवल कुछ विशेष सेक्स समस्या की चमत्कारिक औषधियां ही देशी वैद्यों से बनवा कर जरूरत मंदों को भिजवाते हैं; क्योंकि ये औषधियाँ तांत्रिक तरीकों से बनाई जाती है और जन सामान्य इसको नहीं कर सकता। आईये इस विधि को समझिये और क्यों गुणवता बढती है; चमत्कारिक हो जाती है, उसे समझिये।

जब हम किसी वनस्पति के पास जाते है; तो उनकी तरंगों में भय उत्पन्न होता है। यादी हम काटने गये है, तो वह तो निर्जीव सा ही हो जाता है। सोचिये की प्राणमय से आप किस प्रकार नर्वस होते है। इस समय ऊर्जा प्रवाह की फ्रीक्वेंसी निम्नतर स्तर पर चली जाती है।इसकी चमत्कारिक गुणों को उत्पन्न करने वाली ऊर्जा का नाश हो जाता है। हम 60% हरी वनस्पति प्रयोग करवाते है और उसे तन्त्र के तरीके से प्राप्त किया जाता है।

दूसरा कारण मशीने है। हाथ से मूसली-खल में बनाया गया चूर्ण और मशीन से पीसे गये चूर्ण में अनतर होता है। मशीन के घर्षण का तापक्रम ऊंचा होता है और औषधि के बहुत सरे गुण जल जाते है। विज्ञान के प्रयोगों में भी तापक्रम का महत्त्व सर्वाधिक होता है। तेल बनाने के लिए तन्त्र में निर्देश है की दो दीपक के बराबर ताप होना चाहिए। अधिक हुआ , तो तेल और औषधि दोनों बेकार हो जाएगा।

तीसरा कारण सूत्र है। ये सूत्र सामान्यतया किसी को ज्ञात नहीं। इसका कारण यह है की सेक्स (स्त्री/पुरुष) से सम्बन्धित सूत्र भैरवी चक्र की साधनाओं में पर्योग किये जाते रहे है । इसमें जननेद्रिय विकार, गर्भाशय विकार , लिकोरिया, धातुपतन , सोमरोग (स्त्री रोग, निरन्तर धातु पतन ), स्वप्न दोष , ध्वजभंग (अकारान ही धातु पतन), स्त्मभन, आदि के सूत्र और औषधि बनाने की विधियां है। इनसे मिलते-जुलते फोर्मुले देश के प्रसिद्ध वैद्य 1935 -36 तक प्रयोग में लाते रहे है; पर पेटेंट दवाओं की कंपनियों के हाथ बिकी हुई सरकारें ने इसको महत्त्वहीन कर दिया। पार चाइना में ऐसा नहीं है। उसमें आज भी सभी प्रकार के रोगों में यही पद्धति सर्वाधिक लोकप्रिय है।

इसमें हमारे यहाँ – वातरोग, गठिया और सेक्स सम्बन्धी उपर्युक्त प्रॉब्लम दूर किये जाते है; क्योंकि इन समस्याओं से पीड़ित व्यक्तियों की संख्या बहुत अधिक है। इस समय ज्ञात चिकित्सा विधियों में इसकी चिकित्सा भी नहीं है। बड़े-बड़े हॉस्पिटलों से निराश लोगों ने भी मेरे द्वारा बताये और दिए नुस्खों से जीवन में लाभ किया है।

सेक्स से सम्बन्धित समस्या में एक – दो और कारण भी है ; जिसमें मर्ज बढ़ता ही जाता है, ज्यों – ज्यों दवा की।

जिनको भी प्रमेह रोग है ( इसका चैप्टर अलग से पोस्ट किया जा रहा है) वे जितनी ताकत की दवा या आहार लेंगे, उनका रोग बढ़ता जाएगा; जबकि 80% सेक्स प्रॉब्लम प्रमेह के ही कारण होता है। चाहे वे स्त्री हों या पुरुष। स्त्री का प्रमेह दूसरे नामों से पुकारा जाता है, पर यह प्रमेह ही होता है। दुनिया की कोई दवा इसके रहते किसी की भी किसी सेक्स समस्या को दूर नहीं कर सकती।

एक अन्य कारण गर्मी है। आजकल सेक्स पॉवर बढ़ाने वाली सभी दवाएं अत्यधिक गर्म है। पहले भी निरोग को गर्म दवा ही दी जाती थी। पर गर्मी से उत्पन्न रोगों में गर्म दवा का प्रयोग और भी रोगों को बढ़ाने वाला होता है। यहाँ भी गर्मी को हटाते हुए कुछ विशेष प्रकार की दवाओं का प्रयोग होता है।

आज की सेक्स समस्याएं गर्मी के कारण ही उत्पन्न होते है। १० % ही सर्दी के कारण इसका शिकार होते है।

सेक्स रोगियों स्त्री/पुरुष दोनों की एक और समस्या है की वे शर्म के मारे डिटेल नहीं बताते। उन्हें लगता है की जैसे ताकत के कैप्सूल बिकते है या गर्भाशय विकार, मासिक के विकार के कैप्सूल – टेबलेट बिकते है, धर्मालय से भी दवा प्राप्त हो जाएगी। हमारी औषधियां व्यक्ति विशेष की समस्याओं के लिए केवल उसी के लिए बनाकर भेजी जाती है। इसलिए पूरी समस्या लिखें और यह समझ लें की चाहे आप कितना भी घूम चुके हो, कितने भी निराश हो; आपका इलाज हमारे पास है। जो सम्भव नहीं होगा; हम तुरंत इनकार करेंगे। और इसके लिए जो भी उचित सलाह होगी, वह देगी।

वात रोग और गठिया भी इसी प्रकार की समस्या है। अधिकांश लोग इससे पीड़ित है।

निश्चिन्त होकर हमें मेल करें । हमारा ईमेल है – info@dharmalay.com । हमारे यहाँ से कोई धोखा नहीं होगा। हम यह काम जनहित में कर रहे है, लाभ कमाने के लिए नहीं।ऐसा होता, तो हम भी पेटेंट औषधियां बनवाते।

सेक्स रोगियों के लिए वरदान; गारंटी है, धोखा नहीं होगा – http://goo.gl/9P3vKm

One thought on “सेक्स प्रॉब्लम : क्यों चमत्कारिक है; धर्मालय द्वारा आविष्कृत औषधियाँ

  1. sir namaskar . mujhe panis ki nas m provlum h. nas tedi patli aur choti ho gye h.aur urin m seman bhi jata h. age 35 unmarid. kya m thik ho jaunga. aur aap se personal milna bhi h

    Leave a Reply

    Top