आप यहाँ हैं
धर्मालय > दिव्य तांत्रिक चिकित्सा > श्लीपद (हाथीपाँव) चिकित्सा

श्लीपद (हाथीपाँव) चिकित्सा

एक वर्ष से अधिक का यह रोग कठिनता से नष्ट होता है|कृपया यह बताये कि क्या इसमें से पीव पानी जैसा कुछ बहता है? या इसमें खुजली होती हैं? यदि पानी बहता होगा और बहुत खुजली होगी, तो यह असाध्य है | यदि ऐसा नहीं है , तो निम्नलिखित उपाय करें ———

 

24 घंटे उपवास करवाकर सनाय का पत्ता पंसारी के यहाँ से 10 ग्राम लें और उसे 200 ग्राम पानी में सेंधा नमक या काला नमक डालकर उबालें , 100 ग्राम पानी जब रह जाए , तो रात में पिला दें| यह पिलाने के एक घंटा पहले 20 ग्राम घी दूध में मिलाकर पिला दें (थोड़े से दूध में)| पेट साफ करना सर्वप्रथम जरूरी है | इसके बाद उनको सर्दी और कफ पैदा करने वाले पदार्थ से बचना होगा| इसके बाद जब पेट साफ हो जाए , तो निम्नलिखित औषधि का प्रयोग करें —–

 

 

पीपर, हर्रे , बहेड़ा , आंवला , जंगी हर्रे, देवदारु, सोंठ, और पुनर्नवा यह 100-100 ग्राम और विधारा का बीज 700 ग्राम अलग अलग कूटकर कपडे से छानकर आपस में मिला दें , यह वजन चूर्ण का है | इसे ६ ग्राम की मात्रा में नित्य सुबह गर्म पानी के साथ लें और धतूरे की जड़, एरंडी की जड़, संभालू , पुनर्नवा , सहजने की छाल और राई (छोटी राई) इनको सामान मात्रा में गर्म करके लेप करने से जल्दी लाभ होता है|

 

ऊपर जो दस्त कराने का नुस्खा दिया गया है (सनाय पत्ती) उसे अभी रोककर निम्नलिखित नुस्खें का प्रयोग कुछ दिन करें . क्योंकि ऊपर का नुस्खा तेज जुलाब है , जब अभी दिए गये नुस्खे से काम न चले तब उसका प्रयोग करें – अभी कुछ दिनों तक 25 ग्राम एरंड का तेल यह मेडिसिन के दूकान पर भी मिल जाता है , 25 ग्राम हर्रे का चूर्ण और 250 ग्राम ताजा गौमूत्र ६-7 दिन लगातार सुबह बासी पेट पिलाए इससे पेट साफ़ होता है | यह स्मरण रखें कि यह नुस्खा जब तक चलता रहे रोगी को खिचड़ी और घी साथ में सामान्य सब्जी, जो पचने में हल्का हो दें | यह नुस्खा तब तक चलाए जब तक रोगी को कमजोरी का एहसास न हो और पेट पूरी तरह साफ़ न हो जाए. इन दोनों में जो भी पहले हो जाए उसके बाद इसको बंद करके ऊपर दी गयी दवा का प्रयोग करें | सामान्यतया यह रोग ठीक होने में थोड़ा समय लेता है| प्राचीन वैद्यों की राय यही है और ऋषियों की भी| मैंने स्वयं इसका परीक्षण नहीं किया है क्योंकि इससे पहले ऐसा कोई मामला मेरे सामने नहीं आया है|

 

 

2 thoughts on “श्लीपद (हाथीपाँव) चिकित्सा

  1. mujhe ye bimari h.m aapse contact kaise kar sakta hu plz apna mobile no. ya address bataye….
    thnk u

Leave a Reply

Top