आप यहाँ हैं
धर्मालय > धर्म का ज्ञान क्षेत्र > परमात्मा का रहस्य > शेषनाग का रहस्य

शेषनाग का रहस्य

हजारों फणों और हजारों पूंछों वाले शेषनाग को देखना हो, तो किसी पेड़ को देखिये। इसके पत्ते फण है, जिनसे लगातार फुफकार (श्वाँस ) निकल रही है और कमर पर अनेक शाखायें है। एक पूंछ नीचे चली जाती है, जिनके अंत में हजारों पतली पूंछे होती है।

मनुष्य या जंतुओं में भी सिर की कोशिकाएं कणों का स्वरुप है , रीढ़ की हड्डी शरी , कमर में दोनों और निकली हड्डीयां और लम्बी पूंछ , पूंछ में अनेक बाल (पेड़ जैसे )।

वास्तव में यह तत्त्व विज्ञानं में वर्णित निश्चित पॉवर-सर्किट के , जो सब में एक ही है, केंद्रीय धूरी और शीर्ष एवं पूंछ का वर्णन है। 9 मुख्य पॉवर-प्वाइंट इसी में होते है। इसीलिए कहा जाता है कि इसी में सभी देवी-देवता का वास होता है।

चाईनीज ड्रैगन भी इसी का दूसरा रूप है , जिसमें शरीर (बॉडी) भी ले लिया गया है।

Leave a Reply

Top