आप यहाँ हैं
धर्मालय > धर्म का ज्ञान क्षेत्र > परमात्मा का रहस्य > शिवलिंग का रहस्य

शिवलिंग का रहस्य

इस आधाशक्ति की प्रतिक्रिया में इसकी एक उल्टी प्रतिकृति इसके ऊपर इसी के समकक्ष बनती है , पर इसकी धाराओं घनत्व कम होता है।

इस पर भी ‘0 ’ के घर्षण से चार्ज बनता है; जो पहली संरचना के आवेश से विपरीत प्रकृति का होता है।

यही शिवलिंग है, जो विपरीत आवेश के कारण पहले में समा जाता है।

Leave a Reply

Top