आप यहाँ हैं
धर्मालय > ज्योतिष विद्या > शरीर के लक्षण से अशुभ ग्रहों की पहचान

शरीर के लक्षण से अशुभ ग्रहों की पहचान

शरीर के लक्षण से अशुभ ग्रहों की पहचान(Identification of ominous planets by the body’s symptoms)

सूर्य(Sun) – शरीर(Body) के अंग अकड़ जाए , हिलने-डुलने में कठिनाई हो, हर समय मुंह(Mouth) में थूक आता रहे, घर में लाल गाय या भूरी भैंस हो तो वह खो जाए। ऐसा हो तो सूर्य अशुभ है।

उपाय(Solution) – कोई भी कार्य आरम्भ करने से पहले मुंह में मीठा डालकर कुछ घूँट पानी((Water) पी लें।

चन्द्र(Moon) – अनुभव करने की शक्ति(Power) क्षीण हो जाए, कुआं – तालाब सुख जाये या हैण्ड पंप पानी देना बंद कर दें, घर में दुधारू पशु या घोडा हो तो वह मर जाए। ये चन्द्र की अशुभता के लक्षण हैं।

उपाय – बड़ों के चरण स्पर्श करके आशीर्वाद प्राप्त करें।

मंगल(Mars) – शक्ति –सामर्थ्य होते हुए भी सन्तान न हो,  हो तो जल्दी मर जाए, न मरे तो काणी हो जाये, शरीर के जोड़ काम न करें, रक्त की कमी हो जाये, क्रोध अधिक आये, लड़ाई – झगड़े हों तो मंगल अशुभ हैं।

उपाय – आँखों में सफ़ेद सुरमा लगायें।

बुध(Mercury) – दांत  टूट जाएँ, सूंघने कीई शक्ति जाती रहे, सम्भोग करने की शक्ति न रहे तो बुध अशुभ हैं।

उपाय- दांतों(Teeth) को साफ़ रखें , नाक(Nose) छिदवायें।

गुरु – टकला हो जाए, सोना खो जाए, शिक्षा रुक जाये, निर्दोष होते हुए भी बदनामी फैलें, झूठे अभियोग , दोष लगे , गले में माला पहने की आदत हो जाए तो गुरु अशुभ हैं।

उपाय- ललाट या ललाट से ठीक ऊपर पगड़ी पर पीला तिलक लगायें या केसर – तिलक लगाये । नाक सूखी रखें। कोई भी कार्य आरम्भ करने से पहले नाक सक कर लें।

शुक्र(Venus) – त्वचा – विकार और स्वप्नदोष(Nightfall) शुक्र की अशुभता का संकेत हैं। इससे हाथ का अंगूठा निष्क्रिय/कमजोर हो जाता है।

उपाय – साफ़ – सुथरे कपड़े सलीके से पहले ।

शनि(Saturn) – भौंहों और पलकों के बाल झड़ जाए, भैंस मर जाए , आग लग जाए, मकान गिर पड़े या क्षतिग्रस्त हो जाये तो शनि अशुभ हैं ।

उपाय- लोहे का दान करें, कीकर की दातून करें। 43 दिन तक कौओ को रोटी दें।

राहु – काला कुत्ता मर जाए, हाथों के नाखून झड़ जाएँ, दिमाग काम न करें शत्रुओं की संख्या बढ़ जाएँ तो राहु अशुभ होने का संकेत हैं।

उपाय – सिर पर चोटी रखें , संयुक्त परिवार में रहें , ससुराल वालों से अच्छे सम्बन्ध बनाएं रहें।

केतु – पैरों ने नाखून झड़ जाएँ , सन्तान बीमार रहें , मूत्र – विकार तथा जोड़ों में दर्द हो तो केतु अशुभ हैं।

उपाय – कुत्ते पाले, कान छिदवायें ।

कुंडली की सेवा के लिए यहाँ क्लिक करें.

Leave a Reply

Top