आप यहाँ हैं
धर्मालय > आयुर्वेदिक जड़ी बूटी > शंखाहुलि

शंखाहुलि

शंखाहुलि  ( Evolvulus Alsinoides)

यह कई रोगों की दवा है. शंखाहुलि पौधा  के फायदे  –दिमाग की कमजोरी(Mind Problem) , याददास्त (Memory Problem), एनीमिया, रक्त की कमी (Blood Problem) का यह  आयुर्वेदिक रामबाण इलाज है

रोग- दिमाग की कमजोरी(Mind Problem) , याददास्त (Memory Problem), एनीमिया, रक्त की कमी (Blood Problem), नींद की कमी, डायबिटीज, प्लीहा (Spleen)

दवा- यह वनस्पति आयुर्वेदिक और यूनानी , चरक और आधुनिक ब्रिटिश कालीन रिसर्चरों द्वारा दिमाग को बल देने वाली और स्मरण शक्ति एवं आयु (Age) के साथ-साथ शरीर के धातु (Sperm) एवं रस को बढ़ाने वाली मानी गयी है। मैंने कई छात्राओं (Students) को सलाह दी और उन्हें इससे लाभ हुआ.  बहुत दिनों तक लेने से सुगर लेवल (डायबिटीज) प्राकृतिक रूप से नार्मल होता है.

मात्रा- इसका 3 ग्राम चूर्ण प्रातःकाल दूध के साथ।

विशेष लाभप्रद – शंखाहुलि, बच, ब्राह्मी – बराबर मात्रा में सुखा कर चूर्ण कर लें  और ऊपर लिखे शतावरी – नागौरी , असगंध के चूर्ण चार गुणा मात्रा में मिला लें। 10 ग्राम सुबह-शाम में प्रयोग करें। यह अमृत योग है।

धर्मालय की दवा (सिद्धि विनायक शंखाहुलि चूर्ण) – यह सीद्धि कार्य में मानसिक परिश्रम करने वालों के लिए है , क्योंकि उनके दिमाग में सूनापन, आँखों के आगे झाई, चक्कर, सर्द दर्द (Headache) , भूत-प्रेत दिखना प्रारम्भ हो जाता है। इसमें कुछ भस्म मिलाये गये है।   यह बल , बुद्धि, स्मरण शक्ति, तेज, रक्त की शुद्धता, पाचन क्रिया (Digestive) को सही बनाता है। यह ‘श्री विद्या’ की साधनाओं में प्रयुक्त होने वाला चमत्कारी तन्त्र फार्मूला है.

विशान्त पटेल (धर्मालय सचिव):  (0) 8090147878

Leave a Reply

Top