आप यहाँ हैं
धर्मालय > दिव्य तांत्रिक चिकित्सा > वातरोग, सन्धिवात, गठिया

वातरोग, सन्धिवात, गठिया

वातरोग और गठिया का इलाज(दवा)

 

शरीर में दर्द , गैस्टिक, खट्टी-तीती , डकार, नसों में दर्द, कमर में दर्द, जोड़ों में दर्द, गठिया आदि सेक्स ही नहीं सभी प्रकार के कर्मों को नष्ट कर देते है। कष्ट-यन्त्रणा-मानसिक तनाव अलग होता है।यह स्त्री-पुरुष दोनों का जीवन नर्क कर देता है। इससे कब्ज , अतिसार, संतान बाधा, सेक्स की कमी, सर दर्द , शरीर के अंदर जगह-जगह दर्द अनेक उपसर्ग पैदा होते है।

  1. दो वर्ष के अंदर का रोग ( फुल कोर्स) –               2500 रु.
  2. दो से पांच वर्ष का रोग –               5200 रु.
  3. पांच वर्ष से ऊपर का रोग –               9000 रु.

 

(नोट – 1. पहला सबको लाभ करेगा और दवा प्रयोग होने तक बिमारी परेशान नहीं करेगी; पर पुराना होने पर रोगी ठीक नहीं होगा; उसकी विशेष चिकित्सा होती है)

  1. ये सारी देशी दवाएं है; जो पहले घर-घर में प्रयुक्त होती थी। परिवार की औरतें भी जानती थी और अपनी इलाज खुद कर लेती थी। पुरुषों के रोग देशी वैद्य ठीक कर दिया करते थे। जो आज गंभीर समस्या है; वह तब साधारण बातें थी। पहले यह सब खेतों, जंगलों में मिल जाता था। दूकानों पर भी कीमत कम थी। अब ये दुर्लभ है

सम्पर्क करें 08090147878

Leave a Reply

Top