आप यहाँ हैं
धर्मालय > माला, वस्त्र एवं पूजन सामग्री > माला, यंत्र, वस्त्र एवं पूजन सामग्री

माला, यंत्र, वस्त्र एवं पूजन सामग्री

माला का उपयोग कंठ में पहनने या यन्त्र जाप करने के लिए होता है | दाहिने हाथ की उंगलियों से निकलने वाली तरंगों की टकराहट जब माला के दानों से होती हैं, तो यहां ऊर्जा स्फुलिंग होती है | इसके प्रभाव को उत्पन्न करने के लिए ही माला को मंत्र में उपयोग किया जाता है | इसका उद्देश्य केवल मंत्र गणना करना नहीं है |

यंत्र का महत्त्व उसकी संरचना से होता है.इसे विशेष द्रव से भी लिखा जाता है और कागज के यंत्र को विशेष द्रव से सिद्ध करके भी काम किया जाता है । आज के युग में विशेष द्रव से लेखन संभव नहीं होता इसलिए देवी-देवता के रंग के कॉम्बिनेशन से यंत्र बनाकर उसको विशेष द्रवों एवं मन्त्रों से सिद्ध किया जाता है।

 

सभी मालाएं हमारे यहाँ उपलब्ध नहीं हो पाएंगी। निम्नलिखित महत्वपूर्ण मालाएं जिनका सर्वाधिक उपयोग होता है और सभी कामों में होता है , वे प्राप्त हो सकती है। इन्हें हम 2100 मन्त्रों द्वारा विधि विधान से सिद्ध करवाकर भेजते है।  इसलिए जिन्हें भी निम्नलिखित माला चाहिए वे सामने लिखे मूल्य पर 100 रु अतिरिक्त डाक व्यय जोड़कर इन्हें मंगवा सकते है।

 

हल्दी की माला                                                                         –         

कमल गट्टे की माला                                                                  –         

स्फटिक की माला                                                                     –    .

रुद्राक्ष की माला(मध्यम दाना )                                                  –       

 पारद का  सिद्ध शिवलिंग                                                          –           

पारद का सिद्ध श्री यंत्र                                                               –            

स्फटिक का सिद्ध श्री यंत्र                                                                  –   

स्फटिक का सिद्ध शिवलिंग                                                          –             

सिद्ध श्याम पाषाण का शिवलिंग                                                 –        

सिद्ध श्वेत पाषाण का शिवलिंग                                                  –           .

सिद्ध संगमरमर की शिवलिंग                                                     –                   

संगमरमर या पीतल की सभी प्रकार की देवी-देवताओं की सिद्ध मूर्ति –              

सिद्ध शंख                                                                                     –          

शिव जी का सिद्ध त्रिशूल                                                                –        

बहुत सारे लोग शिवलिंग , भैरव जी की मूर्ति, दुर्गा जी की मूर्ति , इत्यादि अनेक प्रकार की पूजन सामग्री सिद्ध करके मंगवाना चाहते है। हमारे यहाँ इस तरह के पत्र भी आते रहते है। अलग-अलग व्यक्तियों को पूरा डिटेल्स बताना बहुत मुश्किल होता है। इसलिए एक सामान्य जानकारी दी जाती है कि  सिद्धि का व्यय होता है क्योंकि इनका पूजा भी करना होता है और जो उस सामग्री के बाजार का मूल्य होता है उसके साथ 100 रु डाक व्यय लगता है। जैसे सामान्य रसायनिक विधि से जमाया हुआ पारद की शिवलिंग भार के हिसाब से 20 रु से 30 रु प्रतिग्राम स्फटिक का शिवलिंग १२ रु से 40 रु. प्रतिग्राम, धातु या पीतल की मूर्तियों की कीमत , जो भी हो ।

गंगा की सिद्ध मिट्टी और अन्य सामग्रियां

 

सिद्ध गंगा की मिट्टी              (500 ग्राम)                                              –                              

काल भैरव जी का सिद्ध सिन्दूर  (100 ग्राम)                                          –                                

संकट मोचन हनुमान जी का सिद्ध सिन्दूर (100 ग्राम)                            –                          

सर्व बाधा हरण धूप  (500 ग्राम) [तांत्रिक]                                           –                         

देवी सिद्ध रक्त बीज    (10 पीस)                                                          –                               

सिद्ध रुद्राक्ष के दाने        (10 पीस)                                                      –                      

श्वेतार्क की उत्तरामुखी सिद्ध जड़                                                         –                                   

Email- info@dharmalay.com

Phone: 8090147878

 

6 thoughts on “माला, यंत्र, वस्त्र एवं पूजन सामग्री

  1. नमस्कार ,

    मुझे भैरवी चक्र यंत्र का फोटो चाहिए ,
    क्या आप मैरी मदद कर सकते है?

    क्या त्रिपुर भैरवी यंत्र भी वही है।

    Leave a Reply

    Top