आप यहाँ हैं
धर्मालय > माला, वस्त्र एवं पूजन सामग्री > माला की संक्षिप्त सारिणी

माला की संक्षिप्त सारिणी

  1. शिव      – रुद्राक्ष, बेल, गाय के गोबर, चांदी के दाने, लकड़ी के चन्दन, श्वेत चन्दन आदि |
  2. पार्वती     –   रुद्राक्ष, बेल, गाय के गोबर, चांदी के दाने, लकड़ी के चन्दन, श्वेत चन्दन आदि |
  3. रूद्र       – रुद्राक्ष, श्वेतार्क की जड़, रक्त चन्दन, चांदी मिश्रित तांबे के दाने आदि |
  4. गणेशजी   – श्वेतार्क की जड़, श्वेतार्क की कलियां, चन्दन, सोने के दाने आदि |
  5. सरस्वती   – ईख, पान, बेर की गुठली, श्वेत चन्दन, लकड़ी का चन्दन, चांदी के दाने |
  6. विष्णु       – सोने के दाने, जिनमें ताम्बा मिला हो, तांबे के दाने, तुलसी, रुद्राक्ष, लकड़ी के        

                             चन्दन के दाने |

  1. लक्ष्मी       – हल्दी, सोने के दाने, रुद्राक्ष, चिकनी मिट्टी, नारंगी एवं अनार की जड़ के दाने,                

                               कमाल के बीज आदि |  

  1. दुर्गा       – रक्तचंदन, रुद्राक्ष |
  2. काली       – रुद्राक्ष, रक्तचंदन |
  3. भैरवजी     – चमेली की जड़, रक्तचंदन, रुद्राक्ष |
  4. भूत-प्रेतादि   – बबूल एवं कीकर (शम्मी, बिच्छू) |

 

   तामसी साधना में रुद्राक्ष का प्रयोग सरल है | अति तामसी भाव में पशु-पक्षियों की अस्थियों की माला का प्रयोग होता है | इसका विवरण साधनाओं में दिया गया है |

  • मूंगा तथा हीरे की माला पुष्टि एवं वशीकरण के प्रयोग में लाभप्रद रहती है | आकर्षण के प्रयोगों में हाथी के दांत की माला से जप करें | विद्वेषण तथा उच्चाटन के प्रयोग में स्फटिक या घोड़े के दांतों की माला सूत्र में या बाल गुथकर जप करें | जिस प्रकार में जिस प्रकार की माला लिखी है, उसी प्रकार की माला का जप करने से सिद्धि की प्राप्ति हो जाती है |                                                                                             
  • शत्रु के दमन  प्रयोग में या शत्रु की सैन्य-स्तम्भन करने के प्रयोग में गधे के दांतों की माला स्फटिक की माला से जप करें |                                    
  • धर्म, अर्थ एवं काम-मोक्ष की सिद्धि के लिए शंख की माला से जप करें | सम्पूर्ण कामनाओं की सिद्धि के लिए कमलगट्टा की माला से जप करने से सभी कामनाएं सिद्ध होती है |                                                                                                                                                        
  • रुद्राक्ष की माला से सब प्रकार के मन्त्रों का जप किया जा सकता है | स्फटिक, मोती, मूंगा, रुद्राक्ष तथा पुत्रजिवा (जिया पोता) की माला से जप करने से विद्या प्राप्ति होती है |                                                                                                                                                              
  • शान्ति एवं पुष्टि के प्रयोग में माला को कमल के सूत्र में पिरोयें | आकर्षण तथा उच्चाटन के प्रयोग में घोड़े की पूंछ के बालों में माला को गूंथना चाहिए |                                                                                                                                                                                              
  • मारण प्रयोग में मनुष्य की स्नायु में माला को पिरोयें और अन्य कार्यों की पूर्ति के लिए कच्चे सूती धागे से माला पिरोनी चाहिए | यह शास्त्रीय जानकारी मात्र है। इस प्रकार की कोई विधि या माला अब प्राप्त नहीं होती। तंत्र में इसे वर्जित क्षेत्र समझा जाता है। और यह खतरनाक। और किसी के लिए इन प्रयोगों को करना अवैधानिक, अनैतिक एवं अमानवीय हैं।
  •             
  • 27 दानों की माला सिद्धि प्रदान करने वाली होती है | अभिचार कर्म प्रयोग में पंद्रह दानों की माला होनी चाहिए | जिस प्रयोग हेतु जैसी माला का वर्णन किया गया है, उस प्रयोग में वैसी ही माला का प्रयोग करनी चाहिए |                                                                                        
  • तत्वद्रष्टा महर्षियों ने रुद्राक्ष की माला को मंत्र सिद्धि के लिए उत्तम माना है, 108 दाने की माला सर्वकार्यों की सिद्धि हेतु उत्तम बतलाई गयी है |                                                                                                                                                                                            
  • वशीकरण प्रयोग में पूर्व मुख होकर बैठें, फिर जप कर्म आरम्भ करें एवं अभिचार में दक्षिण मुख बैठें, धन की इच्छा से जप करने वाले साधक पश्चिम मुख बैठें तथा शान्ति कर्म, आयु, रक्षा पुष्टि एवं विद्या आदि की प्राप्ति के लिए उत्तर मुख बैठकर जब करना चाहिए |

Leave a Reply

Top