मातृका वर्णों की उत्पत्ति और न्यास

हमने पूर्व में बताया तह कि देवनागिरी लिपि के वर्ण और अंक की उत्पत्ति ‘तन्त्र’ के तत्व विज्ञान से हुई है। अंकों के बारे में तो हम पहले ही बता चुके हैं अब देवनागिरी लिपि की उत्पत्ति किस प्रकार शारीरिक ऊर्जा चक्र ( यह सभी प्राकृतिक रूप से उत्पन्न इकाइयों में एक ही है) से हुई है औरकौन कौन से वर्ण किस अंग से सम्बन्धित है। इन्हें तंत्र में ‘मातृका वर्ण’ कहा जाता है। मातृका का अर्थ मातृ शक्ति या देवी शक्ति है। यह देवी ‘महामाया’ है, जिसमें सभी देवी देवताओं का वास होता है यानी हमारा शरीर या ब्रह्माण्ड का शरीर। यहाँ जो तालिका दी गयी है; वह सिद्धि योगेश्वरी तंत्र की है; जो आज प्राप्त नहीं है। यह लुप्त हो चुका है। इसी के आधार पर ‘मातृका न्यास’ ‘मातृका माला’ आदि को व्यवस्थित किया गया है।

अ                                                                            –                                      वाक् शक्ति

आ                                                                            –                               कंठ क्षीर

इ                                                                              –                             दोनों नासिका छिद्र जीभ

ई                                                                              –                             दोनों नेत्रों के मध्य

उ –                                                                                                           बायाँ कान की लौ

ऊ –                                                                                                          दायाँ कान कि लौ

ए –                                                                                                           दायीं पिंडली

ऐ –                                                                                                           बायीं पिंडली

ओ –                                                                                                         बायाँ- जंघा

औ –                                                                                                         दायाँ जंघा

अं –                                                                                                          शुक्र स्थल (अंड/योनि ओष्ठ)

अः            –                                                                                              प्राण शक्ति

 

इन सोलह को बीज शक्ति यानी शिवलिंग सार कहा जाता है। वर्णमाला में इन्हें स्वर कहा जाता है।

क ख ग                                                                                                      – दंत पंक्ति

घ ड.                                                                                                         दंत पंक्ति

च                                                                                                                             – तृतीय नेत्र स्थान

छ                                                                                                                             – दाहिनी स्तन

ज                                                                                                                             – शिखा अग्र

झ                                                                                                              – दाहिनी उंगलियाँ (हथेली तल मध्य)

ञ                                                                                                             – बायीं उंगलियाँ (हथेली तल मध्य)

त                                                                                                              – दोनों उरु

थ                                                                                                              – चाँद

द                                                                                                              – दाहिनी तलवा

ध                                                                                                              – नेत्र

न                                                                                                              – शिखा स्थान

ट                                                                                                              – नाक की जड़

ठ                                                                                                              – दोनों हाथ

ड                                                                                                              – दाहिनी बांह

ढ                                                                                                             – बायीं बांह

ण                                                                              –                               दोनों कान

प                                                                                                              – ह्रदय

फ                                                                                                             – बायाँ तलवा

ब                                                                                                              – मुख

भ                                                                                                              – दायाँ कंधा

म                                                                                                              –नितम्ब

य                                                                                                                              – बायाँ कंधा

र                                                                                                              – खोपड़ी के पीछे का उठा पर्वत

ल                                                                                                                             – बायाँ स्तन

व                                                                                                                              – कंठ

श                                                                                                                             – गुह्य प्रदेश

ष                                                                                                                              – उदर

स                                                                                                                              – ह्रदय केंद्र (जीवात्मा)

ह                                                                                                                              – प्राण शक्ति (निः श्वास)

क्ष                                                                                                                             – नाभि

 

 

वस्तुतः इन वर्णों की ऊर्जा की उत्पत्ति शरीर की धूरी (रीढ़) के ऊर्जा चक्रों से होती है और इन अंगों के स्पन्दन से ध्वनि मुख से निकती है यही कहा गया है। ‘अ’ और ‘ह’ को प्रारंभ से अंत माना गया है। ‘क्ष’ को चक्रेश्वर यानी नाभि के चक्र के रूप में ऊर्जागमन का स्पन्दन ।

मातृका न्यास और भूत शुद्धि

तन्त्र में ‘मातृका न्यास’ का महत्त्व सर्वाधिक है। इन्ही वर्णों को सिर से पाँव तक , पाँव से सिर तक क्रमानुसार नियोजित करके बिंदु लगाकर न्यास किया जाता है। न्यास का अर्थ शक्ति को न्यस्त करना है। यह कई तरह का होता है। सामान्य पूजा में मन्त्र से षड्ग न्यास किया जाता है ; पर तन्त्र साधनाओं एवं दीक्षा में षोडा न्यास और मातृका न्यास का महत्त्व सर्वाधिक है। भूति शुद्धि भी एक प्रकार का न्यास ही है; जिसकी भी कई विधियां है; पर सर्वाधिक शक्तिशाली भूत शुद्धि अघोरपंथ की है; जिसमें ‘अग्निबीज’ से स्वयं के शरीर को चिता में जलाने , वायुबीज से जले भस्म को उड़ाने और जलबीज से धोकर आत्मा को निर्मल करने की है।

शक्तिपात के नियम

मन आत्मा शुद्ध करके स्वस्थ शरीर से कोई व्यक्ति मातृका न्यास और भूत शुद्धि के बाद एक विशेष तकनीकी से ( किसी भी साधना या ध्यान केन्द्रीयकरण का अभ्यास होना चाहिए) ध्यान को केन्द्रित करके हथेली और उँगलियों से अपने शक्ति तंरगों का शक्तिपात किसी स्त्री-पुरुष पर कर सकता है। शास्त्रों में पूजा प्रक्रिया की विधियों को अपनाकर ; जो भूत शुद्धि का ही एक भौतिक रूप है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *