आप यहाँ हैं
धर्मालय > धर्म का ज्ञान क्षेत्र > भगवन बुद्ध और भगवान् विष्णु क्या एक है?

भगवन बुद्ध और भगवान् विष्णु क्या एक है?

भगवान् बुद्ध मनुष्य थे , उनका जन्म हुआ था और यह कुछ लोगो की जिसमें तुलसीदास भी थे भावना थी कि वे विष्णु के ही अवतार है। एक तो अवतार का होना अंश का होना समझा जाता है। दूसरे किसी मनुष्य को विष्णु जी का अवतार मानना न मानना यह आस्था का विषय है। विष्णु सनातन चक्र के देवता है , उनका जन्म नहीं होता , वे सृष्टि के आदि से है और अंत तक रहेंगे। ब्रह्माण्ड में जिनती भी इकाइयां पाई जाती है , उसके कोर के मध्य में ; जो केंद्रीय शक्ति होती है उसे ही विष्णु कहा जाता है।

आत्मा को सार कहा गया है परन्तु इसके केंद्र में भी भगवान विष्णु होते है।  जहाँ तक महात्मा बुद्ध की बात है , वे आत्मा , परमात्मा, भगवन , ईश्वर इन सबको मानते ही नहीं थे। उनका कहना था कि ये निरर्थक विषय हैं , जब आदमी को तीर लगा हो , तो पहले उसकी पीड़ा को दूर करना चाहिए , तीर कहाँ से आया , किसने छोड़ा, कितनी दूरी से छोड़ा , यह प्रश्न विचारणीय नहीं है। इसलिए वे हमेशा आत्मा आदि के प्रश्न पर मौन रह जाते थे। उनका आदर्श सनातन धर्म के विपरीत था , तो फिर वे सनातन धर्म के किसी केंद्रीय देवता के प्रतिरूप कैसे हो सकते है?

Leave a Reply

Top