आप यहाँ हैं
धर्मालय > धर्म का ज्ञान क्षेत्र > ब्लैक होल का रहस्य ( सनातन सूत्र डिस्कवरी )

ब्लैक होल का रहस्य ( सनातन सूत्र डिस्कवरी )

आज ब्लैक होल एक रहस्य बना हुआ है. पर इसे सनातन सूत्र से न केवल जाना जा सकता है, अपितु प्रमाण भी प्राप्त किये जा सकते हैं. सनातन धर्म का सूत्र है कि जिस संरचना में ब्रहमांड है, उसी संरचना में ब्रहमांड की इकाइयाँ हैं. अब अगर ब्रहमांड में ब्लैक होल है, तो इकाई का परिक्षण करें. प्राचीन तंत्र ग्रंथों में पृथ्वी के अनेक अनोखे छिद्रों के वर्णन किये गए हैं, जिनमें वस्तुओं को विलीन कर देने वाले छिद्र भी हैं.

हम वहा न जा कर सनातन नियम को पकड़ें, तो स्थिति ज्यादा स्पष्ट होगी. सनातन नियम के अनुसार हर उत्पत्ति एक विस्फोट से होती है. विस्फोट के बाद एक ही जैसी संरचना उत्पन्न होती है. भले ही वह संरचना स्थानीय धाराओं के प्रभाव से कुछ बदली हुई अनुभूत हो, पर उसमें दो पार्ट होते हैं, एक आधार, जो निगेटिव चार्ज से आवेशित होता है और दूसरा उसकी प्रतिक्रिया में बनाने वाला उल्टा, जो पोजिटिव चार्ज से आवेशित होता है.

विपरीत चार्ज के कारन ये एक दुसरे में समां कर कुछ न निश्चित नियमों से पंपिंग करते हुए स्वचालित हो जाते हैं और अपने मानक के अनुसार एक निश्चित समय तक एक इकाई के रूप में क्रियाशील रहते हैं. ये अपनी धुरी पर चक्कर [बाएँ से दाएं] काटते रहते हैं. चूँकि बीच में घूर्णन बल नहीं होता, इसलिए वहां एक नाली बन जाती है, जिसके पोजिटिव साइड और निगेटिव साइड के छोड से स्थानीय उर्जा (मेटर भी उर्जा का ही एक रूप है) का प्रवाह इसके अन्दर होता है. यहाँ कुछ भी आएगा इसके अन्दर गायब हो जाएगा.

स्थूल से सूक्ष्म के क्रम में इस संरचना के लाखों क्रम हो सकते हैं यह संरचना हमारे सर के चाँद और गुदा मार्ग के रूप में होती है. पर यह चक्रवात, पानी के भंवर, परमाणु विस्फोट आदि में भी बनती है. ब्रह्मांड में कई उर्जा स्तर पर इकाइयाँ हैं. हम केवल उनके पावर विन्दु को तारे के रूप में देखते हैं, उनके शरीर की धाराएँ हमें अनुभूत नहीं होतीं. इस नियम से ब्लैक होल किसी इकाई के पाजिटिव निगेटिव होल हैं, जहाँ उसकी सूक्ष्मता के मानक के अनुसार जो भी जायगा उसमें गायब हो जायगा. आधुनिक युग प्रकाश के कणों को सबसे सूक्ष्म उर्जा भले मान रहा हो, पर सनातन धर्म के अनुसार मेरे द्वारा की गई एक गणना के आनुसार यह १०८ पावर ८१ टाइम और इतने ही स्तर पर विद्यमान है.

Research and Discovery by Prem Kumar Sharma

2 thoughts on “ब्लैक होल का रहस्य ( सनातन सूत्र डिस्कवरी )

Leave a Reply

Top