प्रमेह, मधुमेह चिकित्सा

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

सेमल की छाल का रस 25 ग्राम, हल्दी – 20 ग्राम, शहद 15 ग्राम – अपमराग का भस्म 1 ग्राम,- महीने भर या 45 दिन सेवन करने से बहुत पेशाब होने , पेशाब कम होने, पेशाब में चीनी आने का रोग नष्ट हो जाता है।

 

यह शास्त्रीय नुस्खा है। पेशाब में तो चीनी नष्ट हो जाती है। मूत्र के रोग भी नष्ट हो जाते है; पर रक्त की चीनी की दशा क्या होती है , यह परीक्षित नहीं है। यह हानिकारक नहीं है। परीक्षा करके देखने में कोई हर्ज नहीं है। परहेज से रहना चाहिए।इसके साथ एक घंटे बाद महानीम की निम्बौली लेकर सुखाकर चूर्ण करके 10 ग्राम चावल के पानी (पीसकर घोल दें, फिर निथार लें) के साथ पीना चाहिए।

 

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

2 Comments on “प्रमेह, मधुमेह चिकित्सा”

  1. मेरी मिता जी के पिते मे पथरी है । कोई ईलाज है ।दवाओं से समभव तो बताऐ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *