आप यहाँ हैं
धर्मालय > गंडे-ताबीज-टोने-टोटके-यंत्र .. > पति रूप यक्ष सिद्धि साधना यंत्र

पति रूप यक्ष सिद्धि साधना यंत्र

यक्ष की सिद्धि भी उनके रूप ध्यान, मन्त्र एवं यंत्र पर की जाती है। इस यंत्र एवं मंत्र पर किसी भी देवता को पतिरूप में सिद्ध किया जा सकता है। यह एक गुप्त विद्या है। कहते है कि दुर्वासा ऋषि ने कुंती को यही मंत्र और यंत्र दिया था। इसी से उसने कर्ण , युधिष्ठिर, भीम एवं अर्जुन को उत्पन्न किया था। बाद में इस यंत्र-मन्त्र को उसने अपनी सौत मादरी को दिया था और उसने देवताओं के संयोग से नकुल और सहेद्व को जन्म दिया था।

यह सत्य है कि इस यंत्र-मंत्र के विधिवत प्रयोग से जिस देवता का आवाहन कर रहे है;स्त्री को उसी रूप-गुण का पुरुष प्राप्त होता है। अशरीर देवता भी प्रत्यक्ष होते है और देव रति से उसे सौभाग्य एवं सुख प्रदान होता है।

यह परिक्षण है; पर यह बिना अभिषेक या इसके समस्त रहस्यों को बताये प्रयुक्त करना उचित नहीं है।

Email – info@dharmalay.com

Leave a Reply

Top