आप यहाँ हैं
धर्मालय > Uncategorized > तप,साधना का गोपनीय रहस्य

तप,साधना का गोपनीय रहस्य

तप और साधना पर जाने कितने  विद्वता भरे वक्तव्य आते रहते है .बहुत से धमॆगुरू इसके लाभ पर व्याख्यान देते रहते हैं ,पर कहीं यह स्पष्ट नहीं है कि यह है क्या?  जब समझ में नआये कि यह है क्या आप इसका लाभ कैसे उठा सकते हैं?जहाँ तक गुरुओं की बात है ,कोई ध्यान लगाने को तप बता देगा ,तो कोई कहेगा कि उपवास करके निजॆला भजन तप है ,तो कोई ब्रह्मचयॆ और आचरण संहिता का पालन करना सिखाने लगेगा ,पर आपको यह जान कर आश्चयॆ होगा कि ईनमें सॆ कोई भी तप या साधना नहीं है.

किसी उदेश्य के लिये परिश्रम करके अपने आप को तपाना, तप है और उसे प्राप्त करने के लिये लगातार किया गया अभ्यास साधना .यह केवल आध्यात्मिक छेत्र के शब्द नहीं है.एक विद्याथीॆ जब विद्या प्राप्त करने के लिये यह करता है ,तो वह भी तप और साधना है .एक वैग्यानिक भी तपस्वी.और साधक ही होता है . एक मैकेनिक या बढ़ई भी .इस प्रकृति में जो कुछ मिलता है ,तप से ही मिलता है .शेर और जानवरों, जलचर, थलचर, नभचर ,सभी को तपस्या और साधना करनी पड़ती है .अपने काम के लिये, जिन्दा रहने के लिये .इन शब्दों को संकुचित अथे में परिभाषित करना अग्यानता है .प्रकृति में अपवादात्मक नियम उत्पन्न नहीं होते .

 इससे प्राप्ति को महान तंत्राचायोॆं ने तीन वगॆ में बाँटा है .पहला ,जो पहले भी प्राप्त किया जाता रहा है यानी जिस प्राप्ति की विधियाँ पहले से ग्यात है ं दूसरा, पहले से ग्यात प्राप्ति के आधार पर आगे नई प्राप्ति .तीसरा बिल्कुल नई प्राप्ति .इन तीनों मे तप करना पड़ता है ,पर पहले से दूसरा ,दूसरे से तीसरा श्रेष्ठ है .

बहुत से लोग सिद्धि चाहते है ,पर जानते नहीं कि आध्यात्मिक या तांत्रिक सिद्धियाँ होती क्या है ? ठगों की भरमार है ,कोई चार दिन में कोई दस दिन में सिद्धियाँ दिलवा रहा है और वे इसे केवल विधि पर आधारित समझ कर मेरा दिमाग खराब किये रहतो है ं.मागॆदशॆन चाहते है ं इन लोगों मे विचार शक्ति का सवॆथा अभाव दिखता है .ये मानसिक शक्तियों को जाग्रत करने और उपयोग करने का मागे है .लोग घर बार छोड़ कर जंगलों में वषोॆं वास करते थे कि घर पर मानसिक रूप से डिस्टवॆ होते रहते है .पर ये लोग ईस वधि तकनीकी से चार दिन में सिद्ध पुरूष बनना चाहते हैं वह भी चालाकी के साथ मुफ्त .मैं हँसता रहता हूँ कि क्या मूखॆताओं की कोई सीमा निधाॆरित है ? तुम तो बिना मूल्य लिये अपने पड़ोसी के बच्चों तक को नहीं पढ़ाओगे ,पर तुम्हे सिद्धि जैसी चीज मुफ्त चाहिये . और जब ठग ठग लेता है ,तो कहते है ंकि मुझे तो धमॆकमॆ पर विश्वास ही नहीं रहा..तो मत करो ना विश्वास ,मैं धमॆ प्रचारक नहीं हूँ .

सिद्धि का मागॆ किसी विद्याथीॆ से समझिये .इक्कीस वषॆ तक परिश्रम करने पर उसे किसी विषय की सिद्धि प्राप्त होती है ,वह भी उसे जो वास्तव में चाहता और मेहनत करता है .ॐabcd नहीं जानते पर सिद्धि चाहिये .,ताकि बिना परिश्रम धन मिलने लगे ंलाख समझाओ कि ऐसी कोई सिद्धि नही होती ,केवल ईंजन लगा देने से सिंचाई नहीं होने लगती पर लालच पीछा नहीं छोड़ती ,फिर ठगे जा कर बाप बाप क्यूँ करते हो भाई?

दास मलूका कह गये लालच बुरी बलाय .

2 thoughts on “तप,साधना का गोपनीय रहस्य

  1. Krpya meri madat kijiye guru ji mujhe bachpan se hi lagta hai ki main kuch anokhe karye ke liye Maine janam liya hai mujhe sidhi main purnta prapt karaye main insaan or bhagwaan ko

Leave a Reply

Top