आप यहाँ हैं
धर्मालय > तंत्र मन्त्र सिद्धि साधना > तंत्र मन्त्र से काला जादू २ (प्रयोग)

तंत्र मन्त्र से काला जादू २ (प्रयोग)

काला जादू (Black Magic) के प्रयोग

१ अनार की लकड़ी की समिधा में,चमेली के फूल में माध्यम को मिला कर हवन करने से वशीकरण होता है.

२दूध,घी,शहद को बराबर मात्र में मिला कर,उसमें महुआ के फूल और  माध्यम मिला कर,आम की लकड़ी की समिधा में हवन करने से साध्य वशीकृत होता है.

३ उपर्युक्त त्रि मधु में आम की समिधा में लाल कमल के साथ स्त्री रज या उसके चाँद के एक दो बाल के टुकड़ों को मिला कर महारात्रिकाल में हवन करने से धन एवं समृद्धि के साथ वांछित स्त्री की प्राप्ति होती है.

४ उपर्युक्त में लाल कुमुद या चमेली के फूलों को मिला कर हवन करने से उपेक्षा से तनी नारी भी वशीकृत होती है.

५ अपने रज या अधो बालों बालों के साथ धतूरे के वह राजा फूल और तेज मदिरा के साथ “क्लीं काम भैरवी …..कामोत्री वशीकृत कुरु कुरु फट स्वाहा “मन्त्र से ५४० हवन,गाय के कंडे की समिधा में,शुक्ल या कृष्ण पक्ष की पंचमी,नवमी,या चतुर्दशी की रात में ९ से १ बजे के बीच करने से एक ही रात में किसी भी पुरुष को वशीकृत किया जा सकता है.वह १० दिन में में सारे बंधन तोड़ कर क्रिया करने वाली नारी के आगे नतमस्तक होता है.शर्त है की हवन के बाद वह वह प्रतिदिन रात में उसी समय सोने से पहले उसी मन्त्र का जप करती रहे.

६ उपर्युक्त प्रयोग पुरूष करे तो,मन्त्र में भैरवी के स्थान पर भैरव और कामोतिरी के स्थान पर कामेश्वरम होगा.

७ गाय के घी में लाल कनेर के फूलों का गे के कंडे में १००० प्रति दिन ३० दिन हवन करने से धन,आभूषण,एवं वांछित स्त्री की प्राप्ति होती है.

८ माध्यम के साथ सेंधा नामक,पीला सरसों,राई के तेल में दाल कर,धतूरे का फूल मिला कर,गई के कंडे के साथ हवन करने से (रात में )वांछित स्त्री वशीकृत होती है.

९ “हूँ अस्त्राय  फट “मन्त्र से मिटटी,पानी,दूध,दही,गी,मधु से मालिश स्नान करके अपने रज या अधो बालों को धतूरे के फूलों में सौफ और गुलाब की पंखुरियों के साथ गाय के कंडे की सामिधा में १०८ हवन,कृष्ण या शुक्ल पक्ष की पंचमी,नवमी,चतुर्दशी की रात में क्रमांक ५ के मन्त्र से हवन करके,हवन की राख छान कर रख लें.इस राख की एक चुटकी किसी पुरुष को खिलाने से वह राजा भी होगा तो वशीकृत हो जाएगा .यह बार बार अलग अलग पुरुषों पर भी पृक्त किया जा सकता है .स्त्री को वश में करने के लिए इस प्रयोग में केवल मन्त्र ६ का प्रयोग करना होता है.मन्त्र सिद्धि पहले से होना आवश्यक है (क्रमांक ५  के लिए भी )

Leave a Reply

Top