आप यहाँ हैं
धर्मालय > धर्म का ज्ञान क्षेत्र > तंत्र का परिचय और भ्रम निदान

तंत्र का परिचय और भ्रम निदान

ब्रह्माण्ड के इस पॉवर-स्ट्रक्चर के उत्पन्न होने, क्रिया करने ,इसके नियम,इकाइयों का परस्पर ऊर्जा –सम्बन्ध , अपने पॉवर-सर्किट का अध्ययन ,उसपर नियन्त्रण करके ब्रह्माण्डीय शक्तियों को प्राप्त करना ‘तन्त्र’ कहलाता हैं। तन्त्र का अर्थ व्यवस्था या सिस्टम है। यह ब्रह्माण्ड के सिस्टम के विज्ञान का अध्ययन है।
इस विज्ञान के आधार पर विभिन्न प्रकार की कामनाओं की पूर्ति के लिए और विघ्न बाधा , समस्याओं के निदान हेतु लाखो रहस्यमय चमत्कारिक नुस्खो से भरा तंत्र विज्ञान अत्यन्त शक्तिशाली चिकित्सा विज्ञान ,से सम्पन्न है। इसके द्वारा अध्यात्मिक , भौतिक , सभी प्रकार की समस्याओं का निदान किया जा सकता हैं।
यह सूक्ष्मतम तरंगो का विज्ञान है। जो इसके रहस्यमय स्वरूप को जानता है; वह व्यक्ति साक्षात परमात्मा होता है। इसका ज्ञान जन –जन को होना चाहिए। इससे सबके कष्ट दूर हो सकते हैं।

11 thoughts on “तंत्र का परिचय और भ्रम निदान

  1. Q – 1 – kya iswar ne sakshat apna astitva is dharti par rakha ya phir kisi manav rup me avtar liya jaise ram, krishna, jisus craist aur islamic anti paigambr mohammed salawasallam ect.

    Q – 2 – agar yes to phir niyam aur kayde kanoon alag kyon hai ?

    Q – 3 – agar yeh sahi hai to kaya sare human being galat hai aur hamlog kay bhatak chuke hai ?

    Q – 4 – agar yeh bhi sahi hai to vishnu puran ke anushar (kalki yug ke anushar) jaise manav jivan nasvar hi aur sath he sath is dharti par har vastu aur jivan ka ant sambhav hai to dharti ka bhi ant sambhav hai, to kya yeh sab bharam hai aur ham sab apas main bewajha hi ladte rahate ahi example- gau hatya band karo aur hum idhar durga aur kali maa ko balidan dete hai, satya kya hai, kya yahi jivan ki antim isthiti ahi, kya yahi se dharti ka vinash sambhav hai.

    aise bahut sare sawal man mein uthte rahte hai par uttar hamare dharma guru bhi nahi de pate hai.
    kya apke paas koi marg hai ise janane ka to kripaya bataiyen…………….. (VIJAY KR. KESHRI) kr.vijay0884@gmail.com

    1. मूर्खों को ज्ञान नहीं होता. सनातन धर्म पृथ्वी से सम्बंधित धर्म नहीं है. यह परमात्मा से उत्पन्न नियमो का विज्ञान है. और इसके बिना इस ब्रह्माण्ड का कोई कण क्रिया शील नहीं होता, न ही उत्पन्न होता है. यह आचरण संहिता नहीं है. और पुरानो में इस सत्य को कथाओं के द्वारा समझाया गया है. अब अन्थास्थावादी मूर्ख उन कथाओ को पकड़ कर बैठ जाता है. और किसी संस्कृति की आचरण संहिता को सनातन धर्म समझने लगता है. तो यह उसकी मूर्खता है. इसमें प्राचीन ऋषियों का क्या दोष है. अब कोई पृथ्वी को गृह समझने लगे, योगासन को योग समझने लगे, कैलाश को हिमालय पर्वत की छोटी समझने लगे और पातळ को प्रिघ्वी के अन्दर ढूँढने लगे तो इसमें बेचारे गुरुओं का क्या दोष है.

      सनातन धर्म ब्रह्माण्ड का धर्म है. और इसकी समस्त व्याख्याएं ब्रह्माण्ड से सम्बंधित हैं. एक चैप्टर पढ़ कर अति विद्वान ही प्रश्न पूछने लगते हैं. धर्मालय का ज्ञान क्षेत्र देखिये. ( http://dharmalay.com/category/kb/ ) और अन्य विवरण भी आपको सारे प्रश्नों के उत्तर मिल जायेंगे.

  2. maharaj jo mene aapse jo bat puchi h unka jabab jarur dena mujhe aap par bharosha laga tabhi Kiya h…… HarveerSingh baghel

      1. Eska mtlb ye huya Maharaj jiska guru ho wo kisi or guru se puch nahi sakta jab narad ji kisi vivda mai pad jate the brahma ji ke pas jate the brahma ji bolte the visnu ji ke pas jao visnu ji bolte h aap bhagwan shiv ke pas jao es vivda ko wo hal kar sakte h jaha se jisko gyan mil jish prakar ka wo hi guru hota h maharaj ye to batao dekh kar mai ek achcha tantrik banna chahta Hu sahi raste par chalne wala mujhe kamyabi milegi ya nahi or mai ma kangra jwala devi nager kot wali Maha mai ka bhakt Hu maharaj aapse hath jod kar recast h jarur bataye

  3. sir ji mujhe bhi saari sidhya parapt karni h mujhe kiya karna hoga .ma aapko kese contct kru.ye ma apne liye nhi dusro ki bhalaye k liye karna chahta hu please contact me mujhe jarur bataye

  4. mera bada ladka kahta hai ki tum mere ma,bap nahi, to hamne ye socha ki oh thodasa pagal ho gaya hai. pichali do sal se o ladka aisa bolta hai. bahut sare prayas hamne kiya hai, lekin koi fark ab tak nahi mila. o ladka abhi 26 years ka hai. kya ap isika ilaag kar sakte ho. agar ho to isike liye kya karna hoga,plz.

Leave a Reply

Top