घी कैसे पचायें ?

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

मुसीबत यह है कि लोग छोटी छोटी सामान्य बातें  को भी पूछने लगते हैं कि  इसकी विधि क्या है .तेल या घी दाल दाल कर मालिश करके सम्बंधित अंगों में अन्दर तक अब्जोर्ब करने की प्रक्रिया को पचाना कहते हैं और घर घर में माताएं बहनें इसे जानती हैं .

इसी प्रकार एक पूछ  रहें हैं कि चूने का निथरा पानी क्या होता है, जो एक पान बेचने वाला भी बता सकता है .एक को सेंधा  नमक कहाँ मिलेगा यह जानकारी चाहिए .

मुझे यह समझ में नहीं  आ रहा कि हमारा समाज एकाएक इतना आलसी क्यों हो गया ?जो बातें लोकल जानकारी की जा सकतीं हैं ,उसमें भी आप ही बता दीजिये .एक मिनट के लिए कोई नहीं सोचता कि हम तो उठ कर सम्बंधित दूकान तक नहीं जा सकते ,पूछ ताछ नहीं कर सकते ,पर एक व्यक्ति का समय नष्ट करने को अपना अधिकार समझते हैं .यह किस प्रकार की सोच है ?

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *