गुरूजी की कवितायें (भजन)

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

गुरु जी प्रसिद्ध उपन्यासकार , कहानीकार, गीतकार, कवी भी रहे हैं।इनकी करीब दो दर्जन उपन्यास , 50 के लगभग कहानियां, कई कवितायें तब से प्रकाशित हो रही है; जब ये मेट्रिक में पढ़ते थे।यहाँ इनके द्वारा लिखे गये भजनों में से एक दिया जा रहा है। यह आपको कैसा लगा हमें अवश्य सूचित करने का कष्ट करेंगे।

 

महिमा शिव की क्यों तू गाये?

महिमा शिव की क्यों तू गाये,

                         शिव को ही जब ना पहचाने ।

तू तो खुद को भी ना जाने ,

                        खुद को सबका ईश है माने ।

दान सभी को सुख का देकर,

                         उसने था जग का सुख छोड़ा।

ताप जगत का गले लपेटा,

                             राख मली धन-वैभव छोड़ा।

जग के दुःख का घोर हलाहल,

                           पान किया अमृत का छोड़ा।

तू तो तृष्णा पान है करता,

                              शिव की महिमा तू क्या जाने? ।। महिमा..।।

प्रिया ह्रदय की अग्नि जली थी,

                             ज्वाला दुःख की उमड़ पड़ी थी।

जग में फिर जब त्राहि मची थी,

                               धरती जब यह रक्त-रंगी थी।

खुद की पीड़ा भूल दयामय,

                             वह था जग के दुःख पर रोया।

पीर किसी की छलकाई है,

                             तूने भी क्या ऐ दीवाने?   ।।महिमा…।।

दिया सुदर्शन विष्णु को है,

                         काली में है उसकी छाया।

दुर्गा के आँचल में फैला,

                         उसके बल का है सरमाया।

होकर सबका शक्ति-विधाता,

                           वह था खुद पर कब गरवाया?

क्षुद्र कीट सा जीवन पाकर,

                            तू प्रभुता का आन बखाने। ।।महिमा…।।

नाम जपे से कुछ नहीं होता,

                             क्यों नहीं मूरख मन को धोता।

जब तक ‘मैं’ है वह नहीं मिलता,

                            वह मिलता है, मैं नहीं रहता ।

कोई जगत का प्रेम कहे तो,

                              ‘राम’ कहे कोई ‘रब’ कोई जाने।

वह जो सबका भाग्य-विधाता,

                                सबके नाटक को पहचाने।

                                                                            –प्रेम कुमार शर्मा

 

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

One Comment on “गुरूजी की कवितायें (भजन)”

  1. शनिवार . वेसे यह रसायन योग हैसमय कल से आदिक सामग्री की शुद्धता और गोटने की अधिकता पर गुणवत्ता आधारित होती है .पर दो ,तीन वर से अद्निक या आधिक मात्र में इसका प्रोग वर्गित है .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *