आप यहाँ हैं
धर्मालय > दिव्य तांत्रिक चिकित्सा > गले की खरास

गले की खरास

गले की खरास(Sore Throats)

कारण(Causes) – हानि पहुँचाने वाले किसी पेय की पीना, अत्यधिक ठंडा पानी(Cold Water) , पेट की गर्मी, स्वर नली और कंठ नली को नुक्सान पहुंचाने वाले किसी वस्तु का खाना.

लक्षण(Symptoms) – गले में अंदर दर्द, कंठ नली में खरास, स्वर बैठना(Voice Problem), जो बोलें उसकी आवाज न निकलना , कंठ नली में आंतरिक सूजन(Internal Swelling) .

यह न करे – कोई भी ठंडी चीज; बर्फ , आइसक्रीम, कोल्डड्रिंक, शर्बत(Juice) या फ्रिज में रखी वस्तु न  खाए पीये.

गले की खराश से तुरंत राहत पाने के घरेलू उपाय( Home Remedies)

  1. हल्के गर्म पानी में फिटकरी – 1 ग्राम सोडा बाई कार्ब ½ ग्राम अंदर तक गलगला कर कुल्ला करें. दो-दो घंटे पर पांच-छै बार करने से गले की खराब और दर्द समाप्त हो जाएगा।
  2. मसूर की दाल को औटकर उसके पानी से गलगला करने से भी यह तकलीफ मिट जाती है.
  3. गले में काँटे जैसा दर्द हो, तो घी-चीनी बराबर मिलाकर दो-दो चमच्च थोड़ी-थोड़ी देर पर खाए।
  4. इसकी आयुर्वेदिक दवा मुलहठी की जड़ चबाते रहना है।
  5. अमरुद के पत्ते पीसकर घोलकर छानकर कुल्ला करना या पानी भी रोग मुक्त कर देता है।

Leave a Reply

Top