आप यहाँ हैं

कब्ज

कारण (Causes) – पाचन शक्ति(Digestive Power) का कमजोर होना या पाचनशक्ति की सामर्थ्य से अधिक की कोई चीज खाना , पेट की गर्मी, एनीमिया , कोई लम्बी बिमारी

लक्षण (Symptom)– लैट्रिन बिल्कुल न होना , कभी-कभी होना, पर  बहुत कम और सूखा होना, मल का काला पड़ा होना, गैस बनना, डकारें आना , कमजोरी आलस्य, जलन, अर्ध्द बेहोशी ।

यह न करें – बाजार(Market) का रेडीमेड तले हुए या पैकेट बंद सामान न खाए, जो पचने में भारी है, वह न खाए, मांस न खाए.

घरेलू इलाज(Home Remedies)

  1. एरण्ड का तेल 25 ग्राम, गाय का मूत्र 250 ग्राम गर्म(Heat) करके बिना कुछ खाए दिन में दो तीन बार पीने से गैस, कब्ज(Constipation) , एसिडिटी दूर होती है।मूत्र(Urine) न पीना हो, तो गर्म दूध में मिलाकर पीये।
  2. बहुत कड़ा कब्ज हो, तो 10 ग्राम सनाय की पत्ती 250 ग्राम पानी में उबालें, जब सौ ग्राम रह जाए तो 5 ग्राम सेंधा नमक मिलाकर रात में सोते समय पी जाए। 12 घंटे का उपवास जरूरी है। सुबह तक पेट(Stomach) साफ़ हो जाएगा।

सावधानी – यह शारीरिक रूप से कमजोर – बीमार को नहीं लेना चाहिए।

  1. पका केला गर्म दूध(Milk) के साथ लेते रहें ।
  2. पांच गुलाब(Rose) , नीचे की हरी पत्ती निकालकर 10 ग्राम घी, एक पाँव दूध के साथ तीन चार बार सुबह-शाम लें।
  3. हर्रे, बहेड़ा आँवला का चूर्ण (त्रिफला) प्रतिदिन सुबह-शाम 6-6 ग्राम गर्म पानी के साथ बिना कुछ खाए लें।
  4. छोटी हर्रे 5 ग्राम, सेंधा नमक 2 ग्राम, मिश्री 3 ग्राम पीसकर प्रतिदिन सुबह-शाम लेने से कब्ज नहीं रहता।

Leave a Reply

Top