अंकोल का तेल – प्रयोग और बनाने की विधि – अंकोल तंत्र

अंकोल का तेल, अंकोल का पौधा
धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

अंकोल (Latin: Alangiumr Lamackii)

अंकोल और अंकोल का तेल कई रोगों की दवा है. दम्मा (Asthma), गंजापन (Hair Problem) का यह  आयुर्वेदिक रामबाण इलाज है. अंकोल का तेल  (Ankol Seed Oil) खासतौर से काफी चमत्कारिक है. यूँ तो अंकोल का पौधा अन्य जड़ी बूटियों की तरह सारे भारतवर्ष में पैदा होता है, पर यह बंगाल में अधिक पाया जाता है। अंकोल का तेल जादूई दवा है। तंत्र में अंकोल से अविश्वसनीय चमत्कार किये गये है।

अंकोल का पौधा
अलैंजिअम सल्बीफोलिअम – अंकोल का पौधा

रोग– दम्मा, गंजापन, शस्त्र से कटे, घाव, कायाकल्प।

दमा का इलाज – अंकोल के जड़ को नींबू के रस में घिस या घोंटकर आधा चम्मच सुबह – शाम भोजन से दो घंटा पूर्व लेने पर पांच दिन में दम्मा  का समस्त कष्ट दूर जाता है।

चमत्कारी अंकोल का तेल ( Ankol Seed Oil)

अंकोल के बीजों को कूटकर उसमें तिल का तेल भींगा-भींगा  कर  तब तक भिंगोते – सुखाते रहे, जब तक वह तेल लेना बंद  न कर दें । फिर एक बड़ी, दूसरी छोटी स्टील की थाली लेकर छोटी को बड़ी पर उल्टा कर, छोटी के पेंदे को  ऊपर  इस मिश्रण को फैला दें और कड़ी  धूप में रखें । इससे तेल नीचे की थाली में टपकने लगेगा। इस तेल को शीशी में भर लें। इस तेल उपयोग बहुत चमत्कारिक हैं.

अंकोल तेल के जादुई उपयोग

इसे लगाने से कटे हुए घाव से बहता रक्त तुरंत बंद हो जाता है और घाव पांच गुणा तेज से भरता है। जटिल घाव पर भी इसका यही उपयोग है। सिर पर इसका मालिश करने से गंजे को भी बाल आ जाता  है

प्रतिदिन प्रातःकाल एक पाँव दूध में शक्कर डालकर उसमें 5 बूँद यह तेल डालकर पीने से 60 दिन में शरीर के रोग मिट जाते है । त्वचा, दांत और बाल में नवजीवन आ जाता है। आँखों की ज्योति बढ़ जाती है। मरते हुए व्यक्ति के मुंह में भी यदि इस तेल की दो बूँद डाल दी जाए, तो वह एक घंटे के लिए चैतन्य हो जाता है।

सम्मोहक जादू

अंकोल के तेल की बत्ती से जलाया दीपक सम्मोहन पैदा करता है। गोबर छत्ते (विषैला मशरूम)  के रस में मिलाकर जलाने से (बत्ती भिन्गों कर पहले सुखा लें) वहां उपस्थित मनुष्य जो-जो कल्पना करता है , उसका प्रत्यक्ष भी करता है। वस्तुतः ऐसा सच में होता नहीं है बल्कि केवल अनुभूत होता है। इस मायाजाल का उपयोग बाजीगर बदमाश खुद को सिद्ध पुरुष साबित करने के लिए करते है।

धर्मालय में अन्य जड़ी बूटी के विषय में जानने के लिए धर्मालय का औषधीय संभाग देखें.

धर्मालय के प्रसार में सहयोग करें

8 Comments on “अंकोल का तेल – प्रयोग और बनाने की विधि – अंकोल तंत्र”

  1. Namaskar Mai Ravi Kayi Dino Se Apke Lekh Ko Padhta aa rha Hoon. Guruji Maine Ankol ke bare me Padha kafi Interesting hai. Guruji Mujhe Ankol Ka Oil Bnane ki Vidhi Aapse Sikhni Hai. Ankol Ko Tel Ko Kaise Bnaya Jaye Iske baare me ap Bta dijiye. Anka Ka Ped Kaisa Hota Hai.

    1. हमें लिखने के लिए धन्यवाद. आपको मेल द्वारा रिप्लाई कर दिया गया है.

  2. Guruji Namaskar . Ankol Tree Kaisa Hota Hai Guruji? Ankol Medicine Kis Kis Kaam Me Aate hai? Ankol Oil Kitna Fayda Karta hai? Guruji Ankol Tel ke Fayde aur Ankol Tel Ke Upyog Kya Hai? Guruji Mujhe inKe baare Mein Btane Ka Kasht Karein

    1. हमें लिखने के लिए धन्यवाद. आपको मेल द्वारा रिप्लाई कर दिया गया है.

    1. हमें लिखने के लिए धन्यवाद. आपको मेल द्वारा रिप्लाई कर दिया गया है.

    1. धन्यवाद, कृपया धर्मालय को आगे बढ़ाने में सहायता करें। इसके प्रसार में मदद करें। सोशल मीडिया के माध्यम से आप हमारे प्रसार में सहयोग कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *